आतंकवाद पर ज़ीरो टॉलरेंस की नीति, कामरान का सफाया है सबूत

पुलवामा के मास्टरमाइंड कामरान को मारकर सुरक्षा बलों ने शुरुआती बदला लेकर साफ कर दिया है कि अब तो आतंकवाद पर ज़ीरो टॉलरेंस की नीति ही चलेगी।

kamran ghazi pulwama attack mastermind killed in an encounter by security forces

kamran ghazi

Pulwama Attack: पुलवामा आतंकी हमले के बाद सेना की तरफ से आतंकियों की तलाश और मुठभेड़ का सिलसिला लगातार जारी है। सोमवार को सेना ने पुलवामा हमले के मास्टरमाइंड और जैश-ए-मोहम्मद के सबसे बड़े कमांडर कामरान को मार गिराया।

कामरान को IED स्पेशलिस्ट बताया जाता है। उसी ने आत्मघाती हमलावर आदिल डार को हमले के लिए ट्रेनिंग दी थी। जानकारी के मुताबिक, सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच गोलीबारी देर रात 12 बजे से चलती रही। पूरी रात दोनों तरफ से फायरिंग जारी थी। इस मुठभेड़ में एक मेजर सहित 4 जवान शहीद हुए हैं।

कामरान वही आतंकी था, जो गुरुवार को हुए CRPF जवानों के काफिले पर आत्मघाती हमले के पीछे था। जैश-ए-मोहम्मद के टॉप कमांडर कामरान ने पाकिस्तान में बैठे अपने आका और जैश सरगना मसूद अजहर के इशारे पर इस वारदात को अंजाम दिया था। कामरान ने ही पुलवामा हमले की पूरी साजिश रची थी। बताया जाता है कि वह मसूद अजहर के सबसे विश्वसनीय करीबियों में से एक था। आतंकी मक़सद को अंजाम देने के लिए पिछले साल ये घाटी में आया था।

हमले के बाद से ही वो भागने की कोशिश कर रहा था। लेकिन सुरक्षाबलों ने उसके मंसूबों को नाकाम कर दिया। बहरहाल, पुलवामा के मास्टरमाइंड को मारकर सुरक्षा बलों ने साफ कर दिया है कि अब तो आतंकवाद पर ज़ीरो टॉलरेंस की नीति ही चलेगी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App