Delhi Election 8-02-2020 : शाम 5.30 बजे तक रिकॉर्ड हुआ 52.95 % मतदान

Delhi Assembly Elections

Delhi Assembly Elections 2020 : आज यानि 8 फरवरी को दिल्ली में विधानसभा चुनाव के लिए 8 बजे से वोटिंग शुरू हो गया है। दिल्ली के मतदाता 70 सीटों पर अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। इस चुनाव को लेकर सारी तैयारी शुक्रवार शाम तक पूरी कर ली गई और सभी मतदान केंद्रों पर सुरक्षा के चाक-चौबंद के पुख्ता प्रबंध किये गए हैं। इसके अलावा शाहीन बाग और जामा मस्जिद जैसे संवेदनशील मतदान केंद्रों पर सुरक्षाबलों द्वारा अतिरिक्त सतर्कता बरत रहे हैं।

Delhi Assembly Elections

 

दिल्ली विधानसभा के लिए होने वाले इस चुनाव के पूर्व संध्या पर दिल्ली मुख्य चुनाव अधिकारी ने अपने आधिकारिक ट्ववीटर खाते से ट्वीट करके लोगों को चुनाव में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने की अपील भी की।

 

 

70 सदस्यों वाली दिल्ली विधानसभा चुनाव में सत्ताधारी आम आदमी पार्टी का सीधा मुकाबला भारतीय जनता पार्टी से है। वहीं पिछली दो चुनावों में लगातार अपना जनाधार खो रही कांग्रेस पार्टी भी इस बार पूरे दमखम के साथ मैदान में उतरी है। दिल्ली के अधिकांश विधानसभा सीटों पर त्रिकोण मुकाबला देखने को मिल रहा है। दिल्ली की जनता आज अपनी सरकार का फैसला ईवीएम मशीनों में कैद कर देगी जिसका नतीजा 11 फरवरी को सुनाया जाएगा।

 

वोटरों को मुफ्त में मतदान केंद्र तक पहुंचाएगी रेपिड़ो

बाइक टैक्सी सेवा प्रदान करने वाली एप्प आधारित कंपनी रेपिड़ो आज राजधानी में मतदाताओं को मतदान केंद्र तक पहुंचने में मदद करने के लिए मुफ्त सफर करा रही है। दिल्ली में विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Elections) के लिए आज सुबह 8 बजे से लेकर शाम छह बजे तक 13 हजार से अधिक मतदान केंद्रों पर वोट ड़ाले जा रहे हैं। रेपिड़ो मतदाताओं को अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने में मदद पहुंचाने के लिए छोटी सी भूमिका निभा रही है। वह दिल्ली में सभी मतदाताओं को मतदान केंद्र तक के लिए मुफ्त सफर की पेशकश कर रही है। कंपनी दिल्ली में कहीं भी तीन किलोमीटर तक मतदान केंद्र तक पहुंचने के लिए शत प्रतिशत भाड़़ा माफ कर देगी। रेपिड़ो के सह संस्थापक अरविंद सांका ने कहा कि हम चुनाव को अपने लोकतंत्र एवं संविधान के अहम हिस्से के रूप में देखते हैं तथा समाज के लिए अपनी छोटी सी भूमिका निभाएंगे।

 

सांसद‚ केंद्रीय मंत्री और सीएम की मेहनत का मूल्यांकन करेंगे मतदाता

दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Elections) के लिए आज हो रहे इस मतदान में दिल्ली की जनता न सिर्फ 672  प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला करेगी बल्कि करीब 300 सांसद‚ दर्जन भर केंद्रीय मंत्री और 10 सीएम की मेहनत का मूल्यांकन भी होगा। आधिकारिक तौर पर 24 जनवरी से शुरू हुए दिल्ली विधान चुनाव प्रचार में सभी दलों ने अपनी पूरी ताकत झोंकी। इसके तहत बीजेपी व कांग्रेस ने अपने मुख्यमंत्रियों को भी मैदान में उतारा था‚ जबकि बीजेपी ने सांसदों मुख्यमंत्रियों सहित केंद्रीय मंत्रियों व पूर्व मुख्यमंत्रियों को भी प्रचार में लगाया था। आम आदमी पार्टी के भी राज्यसभा व लोकसभा सांसद प्रचार मैदान में उतरे थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीजेपी प्रत्याशियों के समर्थन में दो रैलियां की थीं। इसके साथ ही बीजेपी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ‚ गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी‚ उत्तराखंड़ के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत‚ हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर‚ हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर‚ मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह‚ और असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल को प्रचार अभियान में लगाया था। वहीं कांग्रेस ने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और जदयू ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को प्रचार के लिये मैदान में उतारा था। बीजेपी ने प्रचार के लिये दिल्ली के सभी सांसदों सहित करीब पौने तीन सौ सांसदों‚ गृहमंत्री अमित शाह‚ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सहित केंद्रीय मंत्रियों प्रकाश जावड़े़कर‚ स्मृति ईरानी‚ पीयूष गोयल‚ हरदीप सिंह पुरी‚ नित्यानंद राय‚ संतोष गंगवार‚ गजेंद्र सिंह शेखावत‚ अनुराग ठाकुर‚ आदि को मैदान में उतारा। आप व कांग्रेस के भी करीब दो दर्जन सांसद प्रचार अभियान में शामिल हुये।

 

पहली बार बूथ प्रबंधन में लगे थे सांसद

इस चुनाव (Delhi Assembly Elections) में प्रचार के लिए दिल्ली बीजेपी ने केंद्रीय मंत्री‚ नेताओं व सांसदों का पूरा टीम उतार दिया था। वहीं चुनाव में सांसदों को पहली बार वार्ड़ व बूथ स्तर के प्रबंधन की जिम्मेदारी दी गई थी। बीजेपी ने सांसदों को बूथ व वार्ड़ के संयोजकों से मिलकर समूह बैठकें करने को कहा गया था और वे शीर्ष नेतृत्व को नियमित रिपोर्ट भी भेज रहे थे। बीजेपी का दावा है कि उसकी ओर से हर दिन एक हजार नुक्कड़़ सभाएं व समूह बैठकें की गई।

 

रूठों को मनाते व पर्चियां बांटते बीता दिन

दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Elections) के लिए आज को मतदान हो रहे हैं‚ जबकि शुक्रवार को नो कैंपेन डे़ रहा। सभी दलों के नेताओं व प्रत्याशियों ने इस दिन का सदुपयोग रूठे हुए लोगों को मनाने व पर्चियां बांटने में किया। अलग–अलग इलाकों में समूह बैठकें‚ समन्वय बैठकें भी की गईं वहीं प्रचार अभियान में लगे कार्यकर्ताओं को प्रत्याशियों ने दावत भी दी। संपर्क का ये अभियान शुक्रवार देर रात तक चला।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App