बिहार: गया में पुलिस को मिली कामयाबी, 5 साल से फरार नक्सली गिरफ्तार

साल 2016 में थाना क्षेत्र की पैमार नदी पर रेलवे पुल निर्माण करा रही कंपनी का कंस्ट्रक्शन ऑफिस में आग लगाने वाले नक्सली (Naxalite) को मुफस्सिल थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

Naxali

सांकेतिक तस्वीर।

पुलिस को खुफिया जानकारी मिली थी कि नक्सली (Naxalite) महेश इन दिनों अपने गांव में है और त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर कुछ प्लान कर रहा है।

बिहार (Bihar) के गया जिले में पुलिस (Police) को बड़ी सफलता हाथ लगी है। साल 2016 में थाना क्षेत्र की पैमार नदी पर रेलवे पुल निर्माण करा रही कंपनी का कंस्ट्रक्शन ऑफिस में आग लगाने वाले नक्सली (Naxalite) को मुफस्सिल थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने उसे रफीगंज के चांद बिगहा गांव से गिरफ्तार किया। पुलिस उससे पूछताछ कर रही है।

जानकारी के मुताबिक, पुलिस को खुफिया जानकारी मिली थी कि नक्सली (Naxalite) महेश इन दिनों अपने गांव व अन्य गांवों में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर आवाजाही कर रहा है। पुलिस ने रफीगंज व चांद बिगहा में जाल बिछाया, जिसके बाद यह नक्सली चांद बिगहा में 27 अक्टूबर की दोपहर पकड़ा गया।

Coronavirus: देश में बीते 24 घंटे में आए 16,156 नए केस, 700 से अधिक लोगों की मौत

पुलिस के अनुसार, 2016 में पैमार नदी के ऊपर रेलवे पुल का निर्माण कराया जा रहा था। निर्माण कार्य करा रही कंपनी से नक्सलियों (Naxalites) ने निर्माण लागत के करीब 10% लेवी की मांग की थी। लेकिन, कंपनी के नुमाइंदों ने लेवी देने से मना कर दिया और पुलिस से शिकायत की थी।

इस बात से नाराज नक्सलियों ने 2016 में कंपनी के बेस ऑफिस पर हमला किया था। ऑफिस में आग लगा दी थी। साथ ही जेसीबी मशीन और अर्थमूवर फूंक डाले थे। नक्सलियों ने हवा में दर्जनों राउंड फायरिंग भी की थी।

ये भी देखें-

पुलिस मामले की जांच में जुटी थी। जांच में कई नक्सलियों के नाम सामने आए हैं। उसमें से एक रफीगंज चांद बिगहा का रहनेवाला महेश यादव भी शामिल था। महेश यादव ही इस वारदात का मुख्य आरोपी था। वह तब से लेकर अब तक फरार ही चल रहा था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें