UNHRC में भारत और पाकिस्तान होंगे आमने-सामने, इंडिया करेगा पाक के आतंकी चेहरे को बेनकाब

UNHRC में भारत और पाकिस्तान फिर होंगे आमने-सामने

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) में भारत और पाकिस्तान फिर आमने-सामने होंगे। दोनों देश आज परिषद के 42वें सत्र में बोलेंगे। भारत द्वारा जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 (Article 370) को खत्म किए जाने के मुद्दे को पाकिस्तान छोड़ ही नहीं रहा है। भारत का आंतरिक मामला होने के बावजूद पाकिस्तान इस मसले को दुनिया के कई मंचों पर उठा चुका है। हालांकि, हर जगह उसे मात ही मिली है। फिर चाहे वो अमेरिका-रूस से लगाई गई गुहार हो या फिर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में हो, हर जगह अनुच्छेद 370 के मसले को भारत का आंतरिक मसला बताया है और जम्मू-कश्मीर की समस्या पर द्विपक्षीय वार्ता करने को कहा है।

एक बार फिर पाकिस्तान की अपील पर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार काउंसिल में जम्मू-कश्मीर पर चर्चा होगी। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी की अगुवाई में पाकिस्तान का एक पैनल इस मुद्दे को उठाएगा। सबसे पहले पाकिस्तानी मंत्री बयान देंगे और उसके बाद भारत के सचिव उनका जवाब देंगे। जेनेवा में 9 सितंबर को शुरू हुई यह बैठक 27 सितंबर तक चलेगी। पाकिस्तान को करारा जवाब देने के लिए भारत ने भी पूरी तैयारी की है। गौरतलब है कि पाकिस्तान लगातार कथित मानवाधिकार हनन का हवाला देकर कश्मीर पर वैश्विक समुदाय का ध्यान आकर्षित कराना चाहता है। हालांकि, वह अब-तक इसमें नाकाम रहा है।

पढ़ें: सोपोर में लश्कर-ए-तैयबा के 8 ग्राउंड वर्कर गिरफ्तार, जारी है पूछताछ

भारत ने हर स्तर पर उसके झूठ को उजागर किया है। इस बैठक में भारत का प्रतिनिधित्व एक उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमंडल द्वारा किया जा रहा है, जिसका नेतृत्व विदेश मंत्रालय के पूर्वी क्षेत्र के सचिव विजय ठाकुर सिंह और पाकिस्तान में पूर्व भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया कर रहे हैं। पाकिस्तान के भारत पर कथित मानवाधिकार हनन आरोपों के बीच वो खुद ही मानवाधिकार हनन में घिरता दिख रहा है। पीओके में प्रदर्शन कर रहे लोगों के साथ बड़े ही बर्बरता से पेश आया है। पाकिस्तान ने प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस इस्तेमाल किए और उन्हें गिरफ्तार कर लिया। इस घटना से पाकिस्तान का चेहरा पूरे विश्व के सामने बेनकाब हो गया है।

भारत भी बलूचिस्तान और खैबर पख्तूनख्वा में पाकिस्तान द्वारा किए जा रहे मानवाधिकारों के उल्लंघन का पोल खोलने की तैयारी में है। भारत के अधिकारी कश्मीर मसले पर पूरा डोजियर सौपेंगे, जिसमें पूरी स्थिति को समझाया जाएगा। 47 सदस्यों वाले इस संगठन में पाकिस्तान की कोशिश है कि मुस्लिम देश इस मसले पर उसके साथ आ जाएं। लेकिन कूटनीति के मामले में भारत पाकिस्तान से कहीं ज्यादा आगे है। पाकिस्तान जिस मुस्लिम संगठन OIC का सदस्य है, उसके 15 सदस्य UNHRC में भी हैं। पाकिस्तान को इन देशों से काफी उम्मीदें हैं। हाल ही में जब पाकिस्तान ने कश्मीर के मसले को OIC में उठाया था तो उसे मुंह की खानी पड़ी थी।

पढ़ें: नक्सलवाद से निपटने के लिए एक साथ काम करेगी बिहार और झारखंड पुलिस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here