बिहार: धरा गया आधा दर्जन नक्सली वारदातों का वांछित, संगठन विस्तार का संभालता था जिम्मा

बिहार के पूर्वी चंपारण में पुलिस ने प्रतिबंधित नक्सली संगठन एमसीसीआइ के एरिया कमांडर कामेश्वर राम को गिरफ्तार किया। जिले के पताही थाना की पुलिस और मधुबन एसएसबी की संयुक्त टीम ने थानाक्षेत्र के पटखौलिया गांव से इस खूंखार नक्सली को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार नक्सली आधा दर्जन नक्सली घटनाओं में शामिल रहा है। एएसपी अभियान एचएस गौरव के मुताबिक, यह नक्सली प्रतिबंधित नक्सली संगठन एमसीसीआइ के उत्तर बिहार जोनल कमेटी के सचिव लालबाबू सहनी उर्फ भास्कर उर्फ प्रलय के लिए लेवी वसूल करता था। साथ ही वह नक्सली संगठन का विस्तार करने का काम कर रहा था।

कामेश्वर के खिलाफ हत्या, 2005 में हुए मधुबन धमाका, चकिया के हरपुरनाग में रेलवे ट्रैक उड़ाने समेत आधा दर्जन से अधिक नक्सली मामले दर्ज हैं। पुलिस के अनुसार, 10 दिसंबर, 2017 को दर्जनों की संख्या में नक्सली उत्तर बिहार जोनल कमेटी के सचिव लालबाबू सहनी उर्फ भास्कर उर्फ प्रलय के नेतृत्व में एक बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए बैठक कर रहे थे। इसी बीच न यहां से भास्कर सहित तीन नक्सलियों को एक देशी पिस्टल, एक कट्टा, एसएलआर के 10 जिदा कारतूस, लेवी वसूली की रसीद, 11 हजार नकदी, माइंस लगाने में प्रयुक्त होनेवाले फ्यूज कनेक्टर के साथ गिरफ्तार किया गया था। उस वक्त पुलिस को देख नक्सली एरिया कमांडर कामेश्वर राम, पूजा कुमारी, धीरज कुमार, रुदल सहित, राजन राम भाग निकले थे।

पढ़ें: उपन्यासकार हजारी प्रसाद द्विवेदी, जिसने कबीर से कराया दुनिया को परिचित

इसके अलावा कामेश्वर राम पर पताही थाने में जिहुली पंचायत के पूर्व मुखिया शिवचंद्र प्रसाद सिंह की हत्या का मामला दर्ज है। 26 जनवरी, 2011 को यह हत्या हुई थी। इस नक्सली पर शिवहर, सीतामढ़ी और मुजफ्फरपुर जिले में कई मामले दर्ज हैं। पुलिस लंबे समय से कामेश्वर की तलाश  कर रही थी। इससे पहले औरंगाबाद जिले से पुलिस ने एक नक्सली को गिरफ्तार किया था। जानकारी के अनुसार, अंबा थाना के संडा के पास बटाने नदी पर निर्माणाधीन पुल उड़ाने पहुंचे नक्सलियों के साथ सुरक्षाबलों की हुई मुठभेड़ में शामिल नक्सली लोहड़ी यादव को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

नक्सली की गिरफ्तारी जिला पुलिस और सीआरपीएफ के सुरक्षाबलों ने उसके घर से 12 अगस्त को की। एसडीपीओ अनूप कुमार के मुताबिक, 18 जुलाई की रात को हथियारबंद नक्सली बाइक से संडा पुल उड़ाने पहुंचे थे। यह सूचना पहले ही पुलिस को मिल चुकी थी। वहां पहले से मौजूद सुरक्षाबलों के साथ नक्सलियों की मुठभेड़ हो गई। मुठभेड़ के बाद नक्सली तीन बाइक छोड़ फरार हो गए थे। पुलिस ने नक्सलियों की बाइक को बरामद किया था।

एसडीपीओ ने बताया कि इस घटना में गिरफ्तार नक्सली लोहड़ी शामिल था। यह नक्सलियों का सक्रिय सहयोगी है। एसडीपीओ के अनुसार, कई नक्सली वारदातों में इसकी तलाश थी। लेवी वसूल नक्सली कमांडरों तक पहुंचाने और नक्सलियों का पोस्टर चिपकाने का कार्य करता है। आमलोगों में नक्सलियों का खौफ भरता है। साथ ही वह नक्सली घटनाओं में शामिल रहता है। अंबा एवं कुटुंबा थाना की गश्ती दल पर नक्सलियों द्वारा हमले की योजना में भी वह शामिल था। वह अपने जिला के अलावा पलामू के कुछ नक्सली कांडों में शामिल रहा है।

पढ़ें: कई इनामी नक्सलियों ने किया सरेंडर, सरकार की पुनर्वास नीति से थे प्रभावित

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here