India-China LAC Clash: इस जांबाज ने चीन सैनिकों को याद दिलाया छठी का दूध, वतन के लिए हो गया शहीद

15 जून की रात चीनी सैनिकों की झड़प में बिहार के वैशाली जिले का लाल भी शहीद हो गया। 17 जून को जिले के जंदाहा थाना क्षेत्र के चकफतेह गांव के 22 साल के जांबाज बेटे सिपाही जय किशोर सिंह (Martyr Jai Kishor Singh) की शहादत की खबर मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया।

Martyr Jai Kishor Singh

शहीद जय किशोर सिंह (फाइल फोटो) और रोती-बिलखती शहीद की मां।

लद्दाख की गलवान घाटी में 15 जून की रात चीनी सैनिकों की झड़प में बिहार के वैशाली जिले के जय किशोर सिंह शहीद हो गए। 17 जून को जिले के जंदाहा थाना क्षेत्र के चकफतेह गांव के 22 साल के जांबाज सिपाही जय किशोर सिंह की शहादत की खबर मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया। 19 जून को महनार के हसनपुर तीनमुहानी गंगा घाट पर वो पंचतत्व में विलीन हो गए। पिता राजकपूर सिंह ने बेटे को मुखाग्नि दी। इस दौरान घाट पर जुटी हजारों लोगों की भीड़ ने शहीद जय किशोर के लिए नारे लगाए। जय किशोर सिंह साल 2018 में 12 बिहार रेजिमेंट में भर्ती हुए थे। अभी जय किशोर की शादी नहीं हुई थी। चार भाइयों में वे दूसरे नंबर के थे। उनके बड़े भाई नंद किशोर सिंह भी भारतीय सेना में हैं।

यह भी पढ़ें