Sukma

ताजा मामला सुकमा (Sukma) का है। यहां नक्सलियों की साजिश की वजह से CRPF के 3 जवान घायल हो गए हैं। ये जवान रविवार को सर्च ऑपरेशन पर निकले थे।

सुकमा के धुर नक्सल प्रभावित इलाके जगरगुंडा में सुकमा के एसपी केएल ध्रुव 2 दिवसीय दौरे पर हैं। एसपी ने जगरगुंडा तक जगह-जगह कैंपों का दौरा किया।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल इलाकों (Naxal Area) की बेहतरी के लिए प्रशासन लगातार कोशिश कर रहा है। सुदूर इलाकों में भी बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाने की राज्य शासन की कोशिशें अब रंग ला रही हैं।

जवानों का पलड़ा भारी देखकर बाकी के नक्सली भाग खड़े हुए। इस दौरान भारी मात्रा में विस्फोटक और बाकी का सामान बरामद हुआ है।

इस नक्सली का नाम रमेश उर्फ हिदमा मडावी है और उसकी उम्र 45 साल है। एडिशनल एसपी अतुल कुलकर्णी ने बुधवार को इस मामले में जानकारी दी।

हत्या के बाद नक्सलियों (Naxalites) ने उइका का शव कुंदेड़ मिस्सीगुड़ा के बीच फेंक दिया। इस घटना के बाद से पूरे इलाके में डर का माहौल है।

CRPF अधिकारी ने अपनी सर्विस रायफल से खुद को गोली मारी है। ये जानकारी पुलिस ने बुधवार को दी है। शिवानंद कर्नाटक के रहने वाले थे।

छत्तीसगढ़ के सुकमा में नक्सलियों पर लगाम लगाने के लिए अब ड्रोन (Drone) का इस्तेमाल किया जा रहा है। सुकमा में 9 सितंबर को पहली बार इस तरह से इस्तेमाल हुआ।

नक्सली (Naxalites) पहले से इस ट्रक की राह तके बैठे थे, बुधवार को उन्होंने इस ट्रक में आग लगाने की कोशिश की। हालांकि उनके आग लगाने के मंसूबे पूरे नहीं हुए।

Chhattisgarh: एक नक्सली ने अपने चार अन्य साथियों के साथ शनिवार को सीआरपीएफ डीआईजी और सुकमा एसपी के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है।

विकास के दुश्मन नक्सलियों (Naxals) ने जानबूझ कर गांव वालों को अंधेरे में रहने के लिए मजबूर कर रखा था। लेकिन अब 'सौभाग्य योजना' के तहत यहां के गांवों में सोलर होम लाईट की सुविधा पहुंचाई गई है।

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों (Naxals) के सबसे बड़े नेताओं में से एक रमन्ना की मौत का मातम मनाने के बाद नक्सली सुकमा क्षेत्र में बड़ी हिंसक वारदातों को अंजाम देने की फिराक में थे।

छत्तीसगढ़ के धुर नक्सल (Naxal) प्रभावित बस्तर में पुलिस नक्सल उन्मूलन अभियान के तहत मजबूत रणनीति के साथ काम कर रही है। इसका सीधा असर नक्सलवाद से जुड़े लोगों पर पड़ रहा है।

नक्सलियों ने खाने का सामान लूटने के लिए भेज्जी क्षेत्र में ग्रामीणों की गाड़ियां रोक ली थी। इसके चलते सड़क पर जाम लग गया। सूचना मिलने पर डीआरजी के जवान रास्ता खुलवाने के लिए पहुंचे थे।

छत्तीसगढ़ के सुकमा (Sukma) जिले में 11 नवंबर को इनामी नक्सली सहित 9 नक्सलियों ने सरेंडर कर दिया। ये लोग नक्सलियों के तौर तरीकों और उनकी खेखली विचारधारा से तंग आ चुके थे।

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में सुरक्षा बल के जवानों ने तीन नक्सलियों को गिरफ्तार किया। इन नक्सलियों को तोंगपाल थाना क्षेत्र के उपलंका और जुनापानी के जंगलों से पकड़ा गया।

नक्सल संगठनों की दोहरी नीतियों से आजीज आकर छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में नौ नक्सलियों ने पुलिस के सामने आत्समर्पण कर दिया है। पुलिस के अनुसार, नक्सलियों बंजाम राजा, बंजाम आयता, मडकम सुला, किच्चे गंगा, मडकम मुक्का, बंजाम सोमडू, मडकम भीमा, पोज्जा उर्फ पोदिया और बण्डो केशा ने आत्मसमर्पण कर दिया है।

यह भी पढ़ें