Sukma

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित सुकमा (Sukma) जिले में नक्सलियों (Naxalites) ने एक बार फिर कायराना हरकत की है। नक्सलियों ने सड़क निर्माण कार्य में लगे कर्मचारी की हत्या कर दी है।

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बीजापुर और सुकमा जिले (Sukma) के बॉर्डर पर सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच शनिवार को भीषण मुठभेड़ हुई है।

मिली जानकारी के मुताबिक, नक्सलियों (Naxalites) के बड़े प्लान को ध्यान में रखते हुए सुरक्षाबलों के 2 हजार जवान इस नक्सल ऑपरेशन में शामिल हुए थे।

Bijapur Sukma Encounter: इस भीषण मुठभेड़ में अब तक 24 जवानों के शहीद होने की खबर है और 9 नक्सली (Naxalites) मारे गए हैं।

Bijapur Encounter: इस भीषण मुठभेड़ में अब तक 24 जवानों के शहीद होने की खबर है और 9 नक्सली मारे गए हैं। ये मुठभेड़ देशभर में चर्चा का विषय बन गई है।

स्पाइक लोहे के सरिए के बने होते हैं, जिन्हें नक्सलियों (Naxalites) द्वारा सुरक्षाबलों के जवानों को घायल करने के लिए लगाया जाता है।

ताजा मामला सुकमा (Sukma) का है। यहां नक्सलियों की साजिश की वजह से CRPF के 3 जवान घायल हो गए हैं। ये जवान रविवार को सर्च ऑपरेशन पर निकले थे।

सुकमा के धुर नक्सल प्रभावित इलाके जगरगुंडा में सुकमा के एसपी केएल ध्रुव 2 दिवसीय दौरे पर हैं। एसपी ने जगरगुंडा तक जगह-जगह कैंपों का दौरा किया।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल इलाकों (Naxal Area) की बेहतरी के लिए प्रशासन लगातार कोशिश कर रहा है। सुदूर इलाकों में भी बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाने की राज्य शासन की कोशिशें अब रंग ला रही हैं।

जवानों का पलड़ा भारी देखकर बाकी के नक्सली भाग खड़े हुए। इस दौरान भारी मात्रा में विस्फोटक और बाकी का सामान बरामद हुआ है।

इस नक्सली का नाम रमेश उर्फ हिदमा मडावी है और उसकी उम्र 45 साल है। एडिशनल एसपी अतुल कुलकर्णी ने बुधवार को इस मामले में जानकारी दी।

हत्या के बाद नक्सलियों (Naxalites) ने उइका का शव कुंदेड़ मिस्सीगुड़ा के बीच फेंक दिया। इस घटना के बाद से पूरे इलाके में डर का माहौल है।

CRPF अधिकारी ने अपनी सर्विस रायफल से खुद को गोली मारी है। ये जानकारी पुलिस ने बुधवार को दी है। शिवानंद कर्नाटक के रहने वाले थे।

छत्तीसगढ़ के सुकमा में नक्सलियों पर लगाम लगाने के लिए अब ड्रोन (Drone) का इस्तेमाल किया जा रहा है। सुकमा में 9 सितंबर को पहली बार इस तरह से इस्तेमाल हुआ।

नक्सली (Naxalites) पहले से इस ट्रक की राह तके बैठे थे, बुधवार को उन्होंने इस ट्रक में आग लगाने की कोशिश की। हालांकि उनके आग लगाने के मंसूबे पूरे नहीं हुए।

Chhattisgarh: एक नक्सली ने अपने चार अन्य साथियों के साथ शनिवार को सीआरपीएफ डीआईजी और सुकमा एसपी के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है।

विकास के दुश्मन नक्सलियों (Naxals) ने जानबूझ कर गांव वालों को अंधेरे में रहने के लिए मजबूर कर रखा था। लेकिन अब 'सौभाग्य योजना' के तहत यहां के गांवों में सोलर होम लाईट की सुविधा पहुंचाई गई है।

यह भी पढ़ें