S Jaishankar

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो (Mike Pompeo) तीसरे भारत-अमेरिका ‘टू-प्लस-टू’ वार्ता के लिए अगले हफ्ते भारत का दौरा करेंगे। 27 अक्‍टूबर को माइक पॉम्पिओ और रक्षा मंत्री मार्क एस्‍पर (Mark Esper) भारत में होंगे।

विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jaishankar) ने लद्दाख (Ladakh) की स्थिति को 1962 के संघर्ष के बाद सबसे गंभीर बताया है। उन्होंने कहा कि दोनों पक्षों की ओर से वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर अभी तैनात सुरक्षा बलों की संख्या भी अभूतपूर्व है।

इस बातचीत में उन्होंने कोरोना वायरस (Coronavirus) से फैली वैश्विक महामारी से निपटने के साथ ही हिंद-प्रशांत क्षेत्र समेत अंतरराष्ट्रीय चिंता के मामलों के संबंध में द्विपक्षीय एवं बहुपक्षीय सहयोग को लेकर चर्चा की।

अमेरिकी सीनेटर लिंडसे ग्राहम द्वारा कश्मीर के हालात पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में जयशंकर ने कहा, “चिंता मत कीजिए। एक लोकतंत्र (भारत) इसे सुलझा लेगा और आप जानते हैं कि वह देश कौन सा है?”

भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने एस जयशंकर ने न्यूयॉर्क में कहा है कि भारत को पाकिस्तान से नहीं, 'टेररिस्तान' से बात करने में दिक्कत है।

यह भी पढ़ें