Naxali

बिहार के गया जिले में प्रतिबंधित नक्सली (Naxali) संगठन भाकपा माओवादी द्वारा बाराचट्टी प्रखंड के मध्य विद्यालय नदरपुर के दीवार पर पोस्टर चिपका कर धमकी दी गई है।

नक्सल प्रभावित इलाकों में आईईडी (IED) सर्च अभियान के दौरान सुरक्षा को लेकर पुलिस और सुरक्षाबलों की चुनौती बढ़ गयी है। इसकी वजह यह है कि नक्सली संगठन भाकपा माओवादियों के नक्सलियों ने आईईडी (IED) बनाने की नयी तकनीक हासिल है।

गवाहों के अभाव के कारण कुंदन कई मामलों से बरी 15 लाख का इनामी नक्सली (Naxali) था कुंदन 14 मई...

प्रशासन की आंखों में धूल झोंक कर यह नक्सली पिछले 10 सालों से आतंक का पर्याय बना हुआ था। लेकिन कहते हैं कि जुर्म के पांव ज्यादा मजबूत नहीं होते।

झारखंड के चाईबासा से भाकपा माओवादी दस्ते का सदस्य और हार्डकोर नक्सली जीवन कंडुलना का खास सहयोगी करण सिंह मुंडा उर्फ जगदीश पुलिस के हत्थे चढ़ गया है।

गिरफ्तार सुनीता स्वांसी भाकपा माओवादी के हार्डकोर नक्सली कुंदन पाहन, अमित मुंडा, महाराज प्रामाणिक, किशन दा, अनल दा और रमेश जैसे हार्डकोर नक्सलयों के साथ काम कर चुकी है।

सर्चिंग के दौरान सुरक्षाबलों का नक्सलियों से आमना-सामना हो गया। जिसके बाद यह मुठभेड़ शुरू हुई। दोनों तरफ से भारी गोलीबारी हुई। मुठभेड़ में सुरक्षाबलेों को भारी पड़ता देख नक्सली भाग खड़े हुए।

बिहार के औरंगाबाद की जिला पुलिस, सीआरपीएफ एवं एसटीएफ की टीम ने 19 सितंबर की शाम भाकपा माओवादी के दो नक्सलियों को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार नक्सलियों में सियाराम यादव और पप्पू कुमार यादव शामिल हैं।

झारखंड के सिमडेगा में अदालत ने नक्सली गतिविधियों में शामिल होने के मामले में प्रतिबंधित पीपल्स लिबरेशन फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएलएफआई) के तीन नक्सलियों को सजा सुनाई है।

एरिया कमांडर को उसके साथी के साथ बिहार की कैमूर पुलिस ने गिफ्तार किया। दोनों नक्‍सलियों को उत्तरप्रदेश के सोनभद्र से सटे गढ़वा के जंगल से पकड़ा गया।

वृजनंदन ने कहा कि वह 2014 में बहकावे में आकर राह भटक गया था। लेकिन, अब उसे समाज की मुख्य धारा से जुड़ कर अपनी पत्नी व पांच मासूम बच्चों के लिए जीना है।

एसपी अजय लिंडा के मुताबिक, एक गुप्त सूचना के आधार पर रांची के कामड़े से पुलिस ने देववंश को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार नक्सली आठ वारदातों का मुख्य आरोपी है।

नक्सलियों ने इस पत्र में सांसद संतोष पांडेय को धमकी देते हुए लिखा है कि आप आदिवासियों से दूर रहें वरना आपकी हत्या कर दी जाएगी। विकास की बात आप शहरों में जाकर करें।

2011 में मध्य विद्यालय परछा के भवन को बारूदी सुरंग से विस्फोट कर उड़ाने, अमहुआ में सुरक्षा बलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ समेत अन्य नक्सली वारदातों में इन नक्सलियों का हाथ रहा है। पुलिस को इनकी तलाश पिछले आठ सालों से थी।

सात साल से फरार नक्सली लोबो सुरीन को छोटानागरा पुलिस ने गिरफ्तार कर 5 सितंबर को जेल भेज दिया। इस नक्सली को सलाई बाजार से गिरफ्तार किया गया।

कमांडोज फॉर रेलवे सिक्योरिटी (CORAS) इसी साल स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लॉन्च हुआ है। रेलवे ने बेहतर सुरक्षा और संपत्तियों के संरक्षण के लिए इन कमांडोज को देश के अलग-अलग इलाकों में ट्रेनिंग दी गई है।

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने सुरक्षा बलों को नुकसान पहुंचाने के लिए फंदा बना रखा था लेकिन कहानी तब पलटी जब वो इस फंदे में खुद ही फंस गए।

यह भी पढ़ें