Naxal surrender

लाल आतंक (Naxalism) अब अंतिम सांसें ले रहा है। बड़े नक्सली नेता (Naxali Leader) या तो मारे जा रहे हैं, गिरफ्तार हो रहे हैं या फिर आत्मसमर्पण कर रहे हैं।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में नक्सलियों का सरेंडर जारी है। राज्य के सुकमा में एक बार फिर सुरक्षाबलों को नक्सलियों (Naxals) के खिलाफ बड़ी सफलता मिली है। 11 जून को एक बार फिर नक्सलियों ने सीआरपीएफ (CRPF) जवानों और पुलिस (Police) के सामने सरेंडर किया है।

प्रशासन द्वारा नक्सलियों पर जबरदस्त प्रहार का असर दिखने लगा है। कई बड़े नक्सली (Naxals) या तो घेर कर ढेर कर दिए गए हैं या फिर उन्होंने कानून के डर से सरेंडर कर दिया है। अब सुकमा में एक साथ 7 नक्सलियों ने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के सामने घुटने टेक दिए।

नक्सल संगठन की प्रताड़ना से तंग आकर छत्तीसगढ़ के बीजापुर में नक्सली दंपति ने सरेंडर कर दिया। दोनों ने 7 जून को बीजापुर पुलिस के सामने अत्मसमर्पण कर दिया। डीआईजी सीआरपीएफ कोमल सिंह और पुलिस अधीक्षक कमलोचन कश्यप के सामने दोनों ने सरेंडर (Surrender) किया।

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित राजनांदगांव जिले में एक कुख्यात नक्सली दम्पत्ति (Naxali Couple) ने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया।

छत्तीसगढ़ के धुर नक्सल (Naxal) प्रभावित बस्तर में पुलिस नक्सल उन्मूलन अभियान के तहत मजबूत रणनीति के साथ काम कर रही है। इसका सीधा असर नक्सलवाद से जुड़े लोगों पर पड़ रहा है।

जिंदगी में कभी भी किसी भी पर मोड़ प्यार हो सकता है। भले ही हालात कैसे भी हो, प्यार का न कोई वक्त होता है और न ही कोई जगह। ऐसा ही कुछ ओडिशा की 19 साल की जॉली देहुरी और 26 साल के छोटू गंजू के साथ हुआ।

नक्सल प्रभावित राज्यों में सरकार की योजनाओं और पुनर्वास नीतियों का असर देखने को मिल रहा है। इन इलाकों में नक्सलियों का आत्मसमर्पण जारी है। इसी कड़ी में छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में कोंटा पुलिस को एक बार फिर कामयाबी मिली है।

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में दो नक्सलियों ने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। इनमें से एक इनामी नक्सली है।

सरेंडर करने वाले नक्सलियों में पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए नक्सली ताला दा की पत्नी भी है।

मुन्ना मुर्मू के खिलाफ गिरिडीह के अलावा बिहार के जमुई में भी नक्सली मामले चले थे।

नक्सली बामन ने बताया कि उसने सरकार की पुनर्वास नीति से प्रभावित होकर आत्मसमर्पण करने का फैसला किया। नक्सली कमांडर बामन बेको ने 4 जून को दंतेवाड़ा जिला मुख्यालय पहुंचकर यहां पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लव के सामने हथियार डाल दिया।

नक्सल संगठनों की दोहरी नीतियों से आजीज आकर छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में नौ नक्सलियों ने पुलिस के सामने आत्समर्पण कर दिया है। पुलिस के अनुसार, नक्सलियों बंजाम राजा, बंजाम आयता, मडकम सुला, किच्चे गंगा, मडकम मुक्का, बंजाम सोमडू, मडकम भीमा, पोज्जा उर्फ पोदिया और बण्डो केशा ने आत्मसमर्पण कर दिया है।

साउथ बस्तर डिवीजन के चेतना नाट्य मंडली के इंचार्ज मड़कम अर्जुन ने सुकमा जिला प्रशासन के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। 18 साल तक नक्सली हिंसा में शामिल रहे अर्जुन पर 8 लाख रुपए का इनाम था।