Myanmar

भारत-चीन सीमा पर घुसपैठ (Infiltration) की कोशिशों पर मंत्री ने बताया कि इस साल घुसपैठ का कोई मामला सामने नहीं आया है।

म्‍यांमार (Myanmar) में हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। 29 मार्च को भी म्‍यांमार सिक्‍योरिटी फोर्स ने सैन्‍य शासन का विरोध कर प्रदर्शनकारियों पर गोलियां चलाई जिसमें पांच लोगों की मौत हो गई।

म्यांमार (Myanmar)  के लिए यूरोपीय संघ के नेताओं ने ट्विटर पर कहा‚ 76वां म्यांमार सशस्त्र बल दिवस आतंक और असम्मान के दिन के तौर पर याद किया जाएगा। बच्चों समेत निहत्थे नागरिकों की हत्या ऐसा कृत्य है‚ जिसका कोई बचाव नहीं है।

भारत–म्यांमार (Myanmar) सरहद में एक फ्री मूवमेंट रिजीम (FMR) है जो सरहद के करीब रहने वाले जनजातियों को बिना वीजा के 16 किमी तक की यात्रा करने की अनुमति देता है।

म्यांमार (Myanmar) की सेना ने नेता सू की, राष्ट्रपति विन मिंट और नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी के कई वरिष्ठ नेताओं को हिरासत में ले लिया है और देश में एक साल के लिए आपातकाल लागू कर दिया है।

म्‍यांमार (Myanmar) के सांसदों ने द स्‍टेट ऐडमिस्‍ट्रेशन काउंसिल को आतंकी समूह घोषित कर दिया है। उस पर लोगों पर गोली चलाने, पिटाई करने और प्रदर्शनकारियों की गिरफ्तारी करने का आरोप है।

अमेरिका (America) ने म्यांमार (Myanmar) में पैदा हुए हालातों के मद्देनजर अपने नागरिकों की सुरक्षा को लेकर चिंता जाहिर की है। म्यांमार स्थित अमेरिकी दूतावास (US Embassy) ने ताजा हालात को देखते हुए अपने नागरिकों से घरों में ही रहने की अपील की है।

म्‍यांमार (Myanmar) में लोकतंत्रिक सरकार का तख्‍ता पलट करने वाले कमांडर इन चीफ ऑफ डिफेंस सर्विस सीनियर जनरल मिन ऑन्‍ग ह्लेनिंग ने इस कार्रवाई को जरूरी बताया है।

Myanmar सेना का कहना है कि चुनाव में धोखाधड़ी की वजह से ऐसा किया गया है। अनेक हिस्सों में सेना तैनात की गई है, जिससे इस तख्तापलट का विरोध ना किया जा सके।

चीन (China) ने भारत के खिलाफ एक और हरकत की है। ड्रैगन अब म्‍यांमार (Myanmar) में भारतीय प्रॉजेक्‍ट के लिए दुश्‍मन बन गया है और नुकसान पहुंचाने के लिए स्‍थानीय उग्रवादी गुट 'द अराकान आर्मी' को हथियारों की मदद कर रहा है।

यह भी पढ़ें