Maoist

जीवन (Jeevan Kandulna) ने कहा कि वह सरकार की आत्मसमर्पण नीति और विकास कार्यों से प्रभावित होकर मुख्यधारा में लौटा है। उसने नक्सली साथियों से भी हिंसा का रास्ता छोड़कर आम जिंदगी जीने की अपील की।

नक्सलियों (Naxalites) के खिलाफ चलाये गये इस अभियान के दौरान भाकपा माओवादी के एक 40 वर्षीय सदस्य बुधु हंसे (Naxali) को गिरफ्तार किया।

नक्सली पर्चे (Naxali Letter) में टीचर असगर के अलावा अन्य ग्रामीण काशिम, निसार, सदर, चेरका ,सलीम, नवी ,कारू, हविश, बाजो, खर्टली, मुसिया, रोजन,प्यारी ,यूनुस, इस्लाम व चतुर का नाम लिखा हुआ है।

राज्य सरकार की वेलफेयर पॉलिसी के तहत शहीद जवान दुलेश्वर परास (Martyred Duleshwar Paras) के आश्रितों को बीमा की राशि 45 लाख और 25 लाख रुपये अनुग्रह राशि दिया जायेगा

गिरफ्तार नक्सली (Naxali) मंगलू कुडियामी 2018 से नक्सलियों के सांद्रा दलम के साथ काम कर रहा था और 2019 की कुर्ताघाट पुलिस-नक्सल मुठभेड़ में शामिल था।

एसपी के अनुसार, गिरफ्तार मोस्टवांटेड सबजोनल कमांडर (Naxal commander के बाकी साथी पुलिस की भनक पाकर घने जंगल का लाभ उठा कर मौके से फरार हो गये, जिनकी छानबीन जारी है।

पत्नी प्रमिला मेहरा समेत ग्रामीणों ने ये आरोप लगाया कि ये शव किसी नक्सली का नहीं, बल्कि पीरटांड के गम्हरा गांव निवासी 45 वर्षीय राजकुमार किस्कू का है।

एसपी ने कहा, 'थंडरवोल्ट (केरल पुलिस की कमांडो फोर्स) और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में एक नक्सली मारा गया और 5 नक्सली फरार हैं।'

यह भी पढ़ें