Loc

गिरफ्तार आतंकी (Militant) पीओके में मौजूद टीआरएफ के हैंडलर अहमद खालिद के निर्देश पर जम्मू आया था। इलाके की जानकारी हासिल करने में  इस आतंकी की मदद करने वाले उसके दो साथियों को भी पकड़ने के प्रयास तेज कर दिये गये हैं। 

आईएसआई (ISI) ने पाकिस्तान और पीओके में डॉक्टरी और इंजीनियरिंग की पढ़ाई के नाम पर कई कश्मीरी नौजवानों को कानूनी रास्ते से सरहद उस पार ले जा रहे हैं, जहां उन्हें ट्रेनिंग कैंपों में ले जाया जाता है और हथियारों व गोला-बारूद की ट्रेनिंग दी जाती है।

एलओसी (LoC) के अलावा यदि अंतर्राष्ट्रीय सीमा की बात करें‚ तो जम्मू क्षेत्र में भी सीमा पार आतंकवादियों (Militants) की गतिविधियों में पिछले महीने अचानक बढ़ोतरी देखी गई है

अफगानिस्तान (Afghanistan) पर तालिबान (Taliban) के कब्जे के बाद से दुनिया भर में आतंकवाद (Terrorism) का खतरा बढ़ गया है। भारत भी इससे अछूता नहीं है।

Indian Army ने दो दिन पहले नियंत्रण रेखा (Line of Control) पार करके भारतीय सीमा में गलती से आने वाले 9 से 17 साल की उम्र के तीन नाबालिगों को 20 अगस्त को पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू और कश्मीर (पीओजेके) में वापस भेज दिया।

भारतीय सेना ने एक बार फिर इंसानियत की मिसाल पेश की है। गलती से LoC पार कर कश्मीर में दाखिल हुए बच्चों को भारतीय सेना ने वापस भेज दिया है।

Line of Control: एलओसी से सटे इलाकों में सर्दियों में बर्फ पड़ती है। वहीं सियाचिन एक ऐसा इलाका है जहां हमेशा बर्फ रहती है और तापमान माइनस 50 डिग्री तक रहता है। 

नाव पर सवार जवानों (Soldiers) ने तो पहले उस पर काबू पाने का प्रयास किया, लेकिन नदी के तेज बहाव के कारण नाव पाकिस्तान बॉर्डर की तरफ तेजी से जाने लगी। ऐसे में जवानों ने नाव को छोड़ नदी में कूदना ही बेहतर समझा।

15 लाख के इनामी आतंकी लंबू ने पुलवामा हमले के दौरान कार में आइईडी फिट करने में अहम भूमिका निभाई थी। वहीं दूसरे आतंकी की पहचान 7 लाख के इनामी समीर के रूप में हुई है।

Indian Army ने एलओसी (LoC) से लेकर एलएसी (LAC) तक सैन्य ताकत कई गुना बढ़ा ली है। कारगिल युद्ध के बाद से भारत ने जम्मू-कश्मीर से लद्दाख तक धरातल पर अभूतपूर्व सुरक्षा इंतजाम कर लिया है।

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के पुंछ जिले के मनकोट सेक्टर में 24 जुलाई को नियंत्रण रेखा (LoC) पर हुए माइन ब्लास्ट (Mine Blast) हुए में एक जवान शहीद हो गया है।

दुश्मनों को देखते ही गोली बरसाने का ऑर्डर होता है। मशीनगन और रायफल्स से रात के वक्त जवानों द्वारा की गई फायरिंग में ज्यादात्तर सही निशाने पर नहीं लगते। 

पिछले कुछ सालों में पाकिस्तान (Pakistan) और वहां की जमीन से चलने वाले आतंकी संगठन ड्रोन के जरिए भारत में हथियार, असलहा-बारूद गिराने का काम कर रहे है।

ड्रोन पोस्ट से उड़ने वाला जो ड्रोन भारतीय सीमा में दाखिल होगा‚ उसके जरिए पाक न सिर्फ पैसे कमाने की तैयारी में है‚ बल्कि भारत में फिर से दहशत फैलाने की कोशिश की भी रणनीति बनाई है।

पुंछ के पास स्थित बॉर्डर पर पाकिस्तान (Pakistan) बड़ी संख्या में सेना के अतिरिक्त जवानों को तैनात कर रहा है और हथियारों की संख्या को भी बढ़ा जा रहा है।

सीमा सुरक्षा बलों (BSF) के जवानों ने पाकिस्तान की इस गोलीबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया। पाकिस्तान की गोलीबारी में किसी के हताहत या किसी तरह के नुकसान की कोई सूचना नहीं है।

नवाज के प्रवक्ता के मुताबिक, पाकिस्तान कश्मीर को हमेशा विवादित क्षेत्र मानता आया है लेकिन कुरैशी (Shah Mahmood Qureshi) के बयान से ऐसा लग रहा है कि उन्होंने पाकिस्तान के रुख से यू-टर्न मार लिया है।

यह भी पढ़ें