JHARKHAND

झारखंड के रामगढ़ पुलिस को 4 अक्टूबर को बड़ी सफलता हाथ लगी। रामगढ़ जिला पुलिस ने उग्रवादी संगठन टीपीसी के एरिया कमांडर सहित छह नक्सलियों को गिरफ्तार कर लिया है।

झारखंड के रांची में 4 अक्टूबर को हुए नक्सली हमले में पलामू के कुंदरी गांव के जवान अखिलेश राम शहीद हो गए।

3 अक्टूबर की देर रात दशम फॉल के पास नक्सलियों का दस्ता छिपे होने की गुप्त सूचना मिली थी। इस इनपुट के बाद STF और जिला पुलिस द्वारा तलाशी अभियान चलाया जा रहा था।

जोहार जन आशीर्वाद' यात्रा के क्रम में मुख्यमंत्री ने 3 अक्टूबर को सिमडेगा और गुमला में जनसभाओं को संबोधित किया। इसी दौरान उन्होंने उग्रवादियों को मुख्यधारा में लौटने की सलाह दी।

नक्सल प्रभावित झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम पुलिस को नक्सल विरोधी अभियान के दौरान बड़ी सफलता मिली। पुलिस ने 30 सितंबर को गोला बारूद के साथ एक नक्सली को गिरफ्तार किया।

जानकारी के मुताबिक सेप एवं जिला बल के जवानों ने झारखंड के गिरीडीह एवं बोकारो जिला की सीमा क्षेत्र में नक्सलियों के खिलाफ छापेमारी अभियान चलाकर उन्हें चारों खाने चित करने की कवायद तेज कर दी है।

जंगल है तो झारखंड (Jharkhand)  है। जंगल ही इस क्षेत्र की पहचान है। पिछले कुछ सालों से पूरे देश में...

बड़े-बड़े ब्रांडों के नकली शराब बाजार में धड़ल्ले से बिक रहे हैं और जरुरी है कि आप सतर्क रहें। सिर्फ सच की टीम ने नक्सलियों की एक बड़ी साजिश का जब पर्दाफाश किया तो यह बात निकलकर आई है कि नक्सली अब नकली शराब माफियाओं के साथ मिलकर बड़ी साजिश रच रहे हैं।

नक्सल प्रभावित टुंडी क्षेत्र के मनियाडीह-पलमापथ पर नक्सलियों ने पुलिस पेट्रोलिंग टीम को उड़ाने की साजिश रची थी और नेमोरी पुल के नीचे केन बम लगा दिया था।

झारखंड सरकार की समर्पण एवं पुनर्वास नीति से प्रभावित होकर बीते गुरुवार (19-09-2019) को गुमला पुलिस लाइन में भाकपा माओवादी कमांडर भूषण यादव उर्फ चंद्रभूषण यादव ने सरेंडर कर दिया।

नक्सल प्रभावित झारखंड के गिरिडीह के निमियाघाट और पीरटांड़ थाना पुलिस ने एक हार्डकोर नक्सली को गिरफ्तार किया है। जानकारी के मुताबिक, पुलिस ने खुफिया सूचना के आधार पर 20 सितंबर को निमियाघाट थाना क्षेत्र के चेचेडिया जंगल में छापेमारी कर एक कुख्यात नक्सली को दबोच लिया।

नक्सलियों की कमर तोड़ने के लिए प्रशासन मुस्तैद है और उनकी किसी भी तरह से मदद करने वालों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई करने से पुलिस पीछे नहीं हट रही। इस सिलसिले में पुलिस ने झारखंड में एक बड़ी कार्रवाई की है।

झारखंड के नक्सल प्रभावित वैसे राज्य जहां संचार सेवाओं का पहुंचना दुभर था अब वहां फोन कनेक्टिविटी बढ़ाने की कवायद शुरू कर दी गई है। दरअसल नक्सली हमेशा से ही विकास के विरोधी रहे हैं।

सरकार विकास योजनाओं से जन-जन को जागरूक करने के लिए झारखंड सरकार ने एक नई पहल की है। राज्य के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में टेलीविजन के माध्यम से सरकारी योजनाओं के बारे में जानकारी देने के लिए सरकार मुफ्त में डीडी रिसीवर बांटेगी।

एसपी अजय लिंडा के मुताबिक, एक गुप्त सूचना के आधार पर रांची के कामड़े से पुलिस ने देववंश को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार नक्सली आठ वारदातों का मुख्य आरोपी है।

नक्सलियों ने इस पत्र में सांसद संतोष पांडेय को धमकी देते हुए लिखा है कि आप आदिवासियों से दूर रहें वरना आपकी हत्या कर दी जाएगी। विकास की बात आप शहरों में जाकर करें।

2011 में मध्य विद्यालय परछा के भवन को बारूदी सुरंग से विस्फोट कर उड़ाने, अमहुआ में सुरक्षा बलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ समेत अन्य नक्सली वारदातों में इन नक्सलियों का हाथ रहा है। पुलिस को इनकी तलाश पिछले आठ सालों से थी।

यह भी पढ़ें