Jharkhand Naxal Attack

झारखंड (Jharkhand) के लातेहार जिला के चंदवा में हुए नक्सली हमले में दारोगा सुकरा उरांव शहीद हो गए थे। शहीद दारोगा सुकरा उरांव का पार्थिव शरीर 23 नवंबर को उनके पैतृक गांव घाघरा प्रखंड के चुमनू गांव लाया गया।

प्रशासन की सख्ती की वजह से नक्सलियों को लेवी लेने में बहुत कठिनाइयां हो रही हैं। पुलिस की देखरेख में कई कंस्ट्रक्शन कंपनियां भी नक्सल प्रभावित इलाकों में बेखौफ होकर विकास का कार्य कर रही हैं। लेवी ना मिलने से नक्सली संगठन जबरदस्त आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं।

नक्सलियों ने कायरता पूर्ण कार्रवाई करते हुए नीरज की पीठ में गोली मारी थी लेकिन बहादुर नीरज गोली लगने के बावजूद घंटों नक्सलियों से लड़ते रहे। लड़ते-लड़ते नीरज छेत्री मौके पर ही शहीद हो गए।

सुरक्षाबलों के पहुंचने पर सुबह करीब 3:30 बजे नक्सलियों ने फायरिंग शुरू कर दी, जिसके बाद सुरक्षाबलों की तरफ से भी जवाई फायरिंग की गई। इस मुठभेड़ में करीब 5 नक्सलियों के घायल होने की खबर है।

झारखंड में नक्सलियों ने बड़ी घटना को अंजाम दिया। 28 मई की सुबह राज्य के सरायकेला खरसावां में माओवादियों ने धमाका किया। इसमें पुलिस और 209 कोबरा के 26 जवान घायल हो गए।