Jammu kashmir

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) प्रशासन ने राज्य से 5 अगस्त को अनुच्छेद 370 समाप्त किए जाने के बाद से हिरासत में लिये गए तीन नेताओं को 10 अक्टूबर को रिहा कर दिया।

जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में धारा 370 लगने के बाद  से ही केंद्र सरकार ने घाटी में पर्यटकों के आने...

घाटी में बच्चों के लिए घरों में लगेंगी स्पेशल क्लासेज परीक्षा से पहले पाठ्यक्रम पूरा करना है लक्ष्य माता-पिता नहीं...

जम्मू-कश्मीर के अवंतीपोरा में एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को मार गिराया है। घटनास्थल से सुरक्षाबलों ने हथियार और गोला-बारूद बरामद किए हैं। मारे गए आतंकी की पहचान की जा रही है।

दिलबाग सिंह ने बताया है कि घाटी में अभी भी 200 से 300 आतंकी मौजूद हैं, जो घाटी के अलावा देश के अन्य राज्यों को दहलाने की फिराक में हैं।

जानकारी के मुताबिक, करीब 6 साल बाद इस इलाके में घुसपैठ की घटना सामने आई है। सूत्रों के अनुसार, आतंकवादियों के घुसपैठ की यह घटना 27 सितंबर और 3 अक्‍टूबर को हुई।

जानकारी के मुताबिक, आतंकी कश्मीर से वाया बिलावर जम्मू में विस्फोटक सामग्री और हथियार पहुंचा रहे हैं। जो कश्मीर के अनंतनाग, डोडा और कठुआ जिले को जोड़ता है।

जम्मू-कश्मीर में आतंकियों से लोहा लेने के लिए जम्मू-कश्मीर पुलिस को 50 ड्रोन मिलेंगे। जम्मू-कश्मीर पुलिस इन ड्रोन के जरिए आसमान से भी आतंकियों पर नजर रखेगी।

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान अंतराष्ट्रीय स्तर पर समर्थन जुटाने की पूरी कोशिश में है। इसके साथ ही वह घाटी में अशांति फैलाने की भी पूरी कोशिश कर रहा है, ताकि दुनिया को दिखा सके कि वहां हिंसा हो रही है।

पुलिस और सुरक्षाबलों द्वारा लगातार की जा रही आतंक विरोधी कार्रवाई की वजह से आतंकियों पर दबाव बढ़ गया है। खबर है कि किश्तवाड़ में सुरक्षाबलों के बढ़ते दबाव के चलते हिज्बुल मुजाहिदीन का आतंकी आत्मसमर्पण करने वाला है।

जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ में 13 सितंबर को आतंकियों ने महबूबा मुफ्ती की पार्टी पीडीपी के एक नेता की सुरक्षा में तैनात एक प्रोटेक्टिव सर्विस अफसर (पीएसओ) से हथियार छीन लिया।

जमीयत ने अपने प्रस्ताव में कहा कि हमें लगता है कि कश्मीरी लोगों के लोकतांत्रिक और मानवाधिकारों की रक्षा करना हमारा राष्ट्रीय कर्तव्य है। फिर भी, यह हमारा दृढ़ विश्वास है कि उनका कल्याण भारत के साथ एकसाथ रहने में ही है।

जिस ट्रक में हथियार मिले है उस पर श्रीनगर का नंबर लिखा है। यह ट्रक पंजाब के अमृतसर से श्रीनगर के लिए चला था। इन हथियारों को जम्मू-कश्मीर पहुंचाया जा रहा था।

पाकिस्तान के गृहमंत्री एजाज अहमद शाह ने एक इंटरव्यू में यह कूबल किया कि पाकिस्तान में आतंकी संगठन मौजूद हैं। उनके देश की बात कोई सुनने के लिए तैयार नहीं।

भारतीय राजदूत के अनुसार, कश्मीर में हालिया बदलावों से माहौल बेहतर होगा और यह कदम जम्मू कश्मीर के लोगों के हित में होगा। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश के लोगों को अपने अधिकारों को हासिल करने में मदद मिलेगी जिससे वे दशकों से वंचित थे।

पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक, प्रधानमंत्री इमरान खान संयुक्त राष्ट्र की 74वीं महासभा में देश के प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगे। उनके साथ विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी भी होंगे।

अपनी पुरानी बात दोहराते हुए भारत ने कहा कि कश्मीर हमारा आंतरिक मसला है और पाकिस्तान झूठ की फैक्ट्री चला रहा है। विदेश मंत्रालय की सेक्रेटरी (ईस्ट) विजय ठाकुर सिंह ने जिनेवा में UNHRC में जम्मू-कश्मीर पर पाकिस्तान के झूठ को बेनकाब कर दिया।

यह भी पढ़ें