Jammu and Kashmir Terrorists

ये सेवायें कट्टरपंथी अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी की मौत के कुछ घंटे बाद बुधवार देर रात से बंद कर दी गई थीं।

सुरक्षाबलों को इलाके में आतंकियों (Militants) के छिपे होने की जानकारी मिली थी जिसके बाद सेना की 22 आरआर, एसओजी सोपोर और सीआरपीएफ 179, 177 और 92 बटालियन की एक संयुक्त टीम ने वारपोरा में घर-घर में बड़े पैमाने पर सर्च ऑपरेशन चलाया।

सायमा ने कहा, 'मैंने उनसे जान की भीख मांगी लेकिन उन्होंने मेरे बच्चे को भी नहीं छोड़ा। ससुरालवालों की तरह कहीं मुझे भी गोली न मार दी जाए, इस डर से मेरी चीखने की हिम्मत नहीं हुई।

जम्मू कश्मीर (Jammu and Kashmir) के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा कि पुलिस ने इस हमले की आड़ में किए गए एक बड़े आतंकी हमले को नाकाम कर दिया है।

पुलिस ने एक आतंकी को 5 किलो आईईडी बम के साथ गिरफ्तार किया है। हालांकि पुलिस ने अभी तक गिरफ्तार आतंकी की पहचान को लेकर कोई जानकारी नहीं दी है।

वहीं उत्तरी कश्मीर के बारामुला के कुंजर गांव में इसी दौरान ग्रामीणों ने गांव के बाहरी छोर पर एक जंग लगा बम देखा। फौरन बम निरोधक दस्ते ने बम को अपने कब्जे में लेकर उसे सुरक्षित जगह पर निष्क्रिय कर दिया।

यह भी पढ़ें