ITBP

Indo-Tibetan Border Police यानी (ITBP), भारत-तिब्बत सीमा की रखवाली करने वाले यह बहादुर जवान जब हिमालय की चोटियों पर तिरंगा फहराते हैं तो सारा आकाश इन्हें गर्व से निहारता है।

आईटीबीपी (ITBP) के जवान कोरोना काल में दोहरी जिम्मेदारी निभा रहे हैं। देश की सुरक्षा के साथ-साथ लोगों की हर तरह से मदद कर रहे हैं। इतनी जिम्मेदारियों के साथ ही जवानों को खुद की सेहत और फिटनेस का खयाल रखना भी उतना ही जरूरी है।

World No Tobacco Day 2021: ITBP के जवान देश की सुरक्षा के साथ-साथ लोगों की भलाई के लिए भी काम करते हैं और समय-समय पर इसके लिए अभियान चलाते हैं।

कोरोना (Coronavirus) महामारी के संकट से निपटने के लिए देश की राजधानी में स्‍थापित 'सरदार पटेल कोविड केयर सेंटर' (Sardar Patel Covid Care Centre) में ITBP के जवान अपना अहम योगदान दे रहे हैं।

चीन पर किसी भी हाल में भरोसा नहीं किया जा सकता। उसकी चालबाजियों को देखते हुए वास्तविक नियंत्रण रेखा की सुरक्षा का जिम्मा संभालने वाली इंडो तिब्बतन बार्डर पुलिस (ITBP) चीन पर कड़ी नजर रखे हुए है।

सरदार पटेल कोविड केयर सेंटर में आज पीएम केयर्स ट्रस्ट फंड से उपलब्ध कराए गए 150 जीपीएस आधारित वेंटिलेटर बेड को चालू कर दिया गया है। आईटीबीपी (ITBP) आईजी आनंद स्वरूप ने आज वेंटिलेटर वार्डों का दौरा किया और अधिकारियों के साथ केंद्र में व्यवस्थाओं की समीक्षा की।

सरदार पटेल कोविड केयर सेंटर ( Sardar Patel Covid Care Centre) में हर रोज COVID-19 मरीज सुबह के योग और ध्यान सत्र ( Morning yoga and meditation) में भाग लेते हैं।

32 साल के शहीद प्रदीप यादव (Pradeep Yadav) यूपी के संभल जिले के चन्दौसी के रहने वाले थे। वह गांव चितौरा के मूल रूप से रहने वाले थे।

नक्सलियों (Naxalites) द्वारा प्लांट किए गए आईईडी छत्तीसगढ़ के राजनंदगांव में नवागांव और बकरकट्टा के पास बरामद किए गए थे।

लद्दाख में 17 हजार फीट की ऊंचाई पर बलवान घाटी के पास ITBP के जवानों ने होली का जमकर लुफ्त उठाया और इस होली का एक वीडियो भी बनाया।

Indo-Tibetan Border Police यानी (ITBP), भारत-तिब्बत सीमा की रखवाली करने वाले ये बहादुर जवान जब हिमालय की चोटियों पर तिरंगा फहराते हैं तो सारा आकाश इन्हें गर्व से निहारता है।

इंडो तिब्बत बॉर्डर पुलिस (ITBP) एक ऐसा अर्धसैनिक बल था जहां पर असिस्टेंट कमांडेंट लेवल पर महिलाओं को नहीं लिया जाता था। लेकिन वहां भी महिलाओं के लिए प्रवेश के द्वार खोल दिए गए।

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्रवाई की जा रही है। फिर भी नक्सली अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। ताजा मामला कोंडागांव का है।

Uttarakhand Disaster: मलारी को जोड़ने वाला पुल भी बह गया है। ये पुल सेना को बॉर्डर से जोड़ता है। ऐसे में ITBP के जवानों को वहां भेजा गया है।

Republic Day 2021: देश आज 72वें गणतंत्र दिवस का जश्न मना रहा है। इस मौके पर देश के अलग-अलग हिस्सों में लोगों ने पूरे उत्साह के साथ इस दिन को सेलीब्रेट किया।

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के खिलाफ अभियान तो चलाया ही जा रहा है, साथ में नक्सलियों से प्रभावित इलाकों का विकास भी किया जा रहा है।

ITBP का कहना है कि ये इलाका पहले पूरी तरह बंजर था, लेकिन अब यहां इस तरह के पौधे लगाए गए हैं, जो इस माहौल में जिंदा रह सकें।