ISI

मारे गये आतंकियों (Militants) के पास से पांच एकके 37 रायफल, सात पिस्तौल और दर्जनों हथगोले सहित बड़ी मात्रा में हथियार, गोला-बारूद, भारत-पाक की नगदी व अन्य जरूरी सामान जब्त किये गये।

पाकिस्तान (Pakistan) के आईएसआई प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद जाहिर तौर पर तालिबान (Taliban) नेतृत्व से मिलने के लिए पिछले हफ्ते ही काबुल गए थे।

आईएसआई (ISI) ने पाकिस्तान और पीओके में डॉक्टरी और इंजीनियरिंग की पढ़ाई के नाम पर कई कश्मीरी नौजवानों को कानूनी रास्ते से सरहद उस पार ले जा रहे हैं, जहां उन्हें ट्रेनिंग कैंपों में ले जाया जाता है और हथियारों व गोला-बारूद की ट्रेनिंग दी जाती है।

पाकिस्तान द्वारा तालिबान (Taliban) की मदद के लिए भेजे गए हथियार ही मौजूद थे। जो कि असल में तालिबान की मदद करने के लिए पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) ने भारी संख्या में तालिबानी लड़ाकों को भेजे थे।

अल बदर के कथित आतंकी सुहैल बशीर की बाबत अदालत में दायर चार्जशीट में कहा है कि सुहैल बशीर को करीब छह किलो की विस्फोटक आईईडी जम्मू शहर के बाहरी इलाके हिजड़ा में एक बोरे में मिली थी।

आतंकियों के खिलाफ भारतीय सुरक्षाबलों की कार्रवाई से पाक (Pakistan) एजेंसी ISI बौखलाई हुई है। भारतीय जवान लगातार आतंकियों को ढेर कर रहे हैं।

आईएसआई को लगता है कि भारतीय सेना का पूरा फोकस कश्मीर में है। ऐसे में उसे भारत के दूसरे हिस्सों में आतंकी घटना को अंजाम देने में कोई समस्या नहीं होने वाली।

ड्रग माफिय शाहिद सुमरा (Shahid Sumra) कच्छ जिले की मांडवी तहसील का रहने वाला है। उसने पाकिस्तान से बोट के जरिए कई बार में 530 किलो हेरोइन को समुद्र रास्ते के जखौ बार्डर से 7-8 मील अंदर मंगाया था।

पाकिस्तान और भारत के बीच अबतक चार युद्ध लड़े जा चुके हैं। हर बार पाकिस्तान को बुरी तरह से हार का सामना करना पड़ा है। पाकिस्तान हर बार हार कर फिर से भारत के सामने लड़ता है और हारता है।

पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) के लिए जासूसी करने वाले एक शख्स को दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की क्राइम ब्रांच (Crime Branch) ने गिरफ्तार किया है।

प्रवीण कुमार ने खुलासा किया है कि इस रैकेट ने फर्जी तरीके से उनका धर्मांतरण (Forceful Conversion) करा दिया जबकि उनको इसकी भनक तक नहीं लगी।

नसीबी ने मुंबई में कई जगहों पर छापेमारी और छानबीन की थी। इस दौरान पकड़े गये आरोपियों से पूछताछ में चरस की सप्लाई का कनेक्शन दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) के भाई इकबाल कासकर से जुड़ा पाया गया।

हैरानी की बात ये है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI इन्हें फंडिंग करती थी। ATS टीम करीब 4 दिन से इनसे पूछताछ कर रही है।

आरोपी जसपाल ने ही सोशल मीडिया के जरिए हरपाल को अपने जाल में फंसाया था। दिल्ली पुलिस (Delhi Police) को पूछताछ के दौरान हरपाल ने बताया है कि उसे बाद में पता चला था कि जसपाल पाकिस्तान में बैठा है।

इसी महीने की पाँच तारीख को भारतीय नौसेना (Indian Navy) ने पांच मार्च को मिनिकॉय में श्रीलंका के एक पोत को पकड़ा था जिस पर चालक दल के छह सदस्य सवार थे।

दिल्ली पुलिस ने आरोप लगाया कि दिशा रवि (Disha Ravi) ने व्हाट्सऐप पर हुई बातचीत‚ ईमेल और अन्य साक्ष्य मिटा दिये और वह इस बात से अवगत थी कि उसे किस तरह की कानूनी कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है।

पाकिस्तान में बैठे आतंकवादियों (Terrorists) के आकाओं को इस बात का डर सता रहा है कि फोन या सैटेलाइट का इस्तेमाल सुरक्षित नहीं है। ऐसे में सोशल मीडिया पर अलग-अलग नाम से अकाउंट बनाए गए हैं जिन पर सुरक्षा एजेंसियों की नजर है।

यह भी पढ़ें