INS Vikramaditya

आग बुझाने के दौरान कमांडर चौहान के फेफड़ों में धुंआ और गैस भर जाने से वह बेहोश होकर गिर गए। उन्हें वहां से निकालकर तुरंत कारवाड़ स्थित नेवी हॉस्पिटल ले जाया गया। पर, उन्हें बचाया नहीं जा सका।

यह भी पढ़ें