India China dispute

चीन की हर कोशिश को नाकाम करने के लिए Indian Army ने ऑपरेशन 'स्नो लेपर्ड' (Operation Snow Leopard) चलाया है। इस ऑपरेशन ने चीन की हर चाल को बेनकाब कर दिया है।

भारत और चीन (India-China) के बीच सीमा पर तनाव को कम करने के लिए पांच बिंदुओं पर सहमति बनी है। इस बात की जानकारी 11 सितंबर को विदेश मंत्रालय ने दी।

LAC पर भारत और चीन के बीच बढ़ते तनाव के मद्देनजर उत्तराखंड के सीमांत जनपद उत्तरकाशी के नेलांग बॉर्डर की अंतिम चौकियों पर सेना और भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल के साथ -साथ Indian Air Force भी पूरी मुस्तैदी के साथ तैनात हैं।

LAC पर भारतीय सेना चीन की हर चाल पर कड़ी नजर रख रही है। भारतीय जवान, पीपल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) के हर नापाक इरादों पर पानी फेर देते हैं। अब तो अंतरिक्ष से भी चीन की हर हरकत पर नजर रखी जा रही है।

भारत और चीन के बीच सीमा विवाद (Border Dispute) को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने 4 सितंबर को मध्यस्थता की पेशकश की।

लद्दाख में चीनियों से मोर्चा लेने के लिए देश की सीमा पर डटे कुछ जवान ऐसे भी हैं, जिसके बारे में किसी को भी शायद ही कुछ ज्यादा जानकारी हो। ऐसा ही लद्दाख सीमा पर 'स्पेशल फ्रंटियर फोर्स' (SFF) का एक जवान देश के लिए अपनी जान कुर्बान कर गया।

साल 1962 में जब भारत (India) और चीन (China) के बीच युद्ध हुआ था तो दोनों देशों के पास परमाणु शक्ति नहीं था। लेकिन आज के समय में भारत और चीन दोनों के देशों के पास परमाणु शक्ति है।

भारत-चीन बॉर्डर (India China Border) पर हालात फिर से बिगड़ गए हैं। चीन मौका देखते ही अपनी चालबाजी दिखाने लगाता है। अब, लद्दाख (Ladakh) में जारी तनाव के बीच अन्य सीमाओं पर भी हलचल बढ़ गई है।

Exclusive: पश्चिमी सिंहभूम जिले के धुर नक्सल प्रभावित गुदड़ी के जंगल में उग्रवादी संगठन पीएलएफआई के नक्सलियों के साथ मुठभेड़ के बाद एक अस्थाई कैंप से पुलिस ने AK-47 बरामद किया, जो चीन का बना हुआ था।

India China Dispute: दोनों देशों ने सीमा पर सैनिकों की संख्या को बढ़ा दिया है। ताजा मामला ये है कि भारत और चीन ने अपनी तरफ से टैंकों की तैनाती कर दी है।

यह भी पढ़ें