India China Border Tension

लद्दाख (Ladakh) के गलवान घाटी में चीनी सैनिकों और हिन्दुस्तानी जवानों के बीच हुई हिंसक संघर्ष में बिहटा के लाल सुनील कुमार शहीद हो गए। शहीद सुनील कुमार (Martyr Sunil Kumar) का सुबह सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। उनके 10 साल के बेटे आयुष ने मुखाग्नि दी।

भारत-चीन सीमा पर शहीद जवानों में झारखंड के जवान गणेश हांसदा भी वीरगति को प्राप्त हुए हैं। शहादत की खबर से परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। शहीद गणेश हंषदा (Martyr Ganesh Hansda) के परिजनों से मिलने और सांत्वना देने के लिए उनके घर पर लोगों का तांता लगा हुआ है।

बिहार रेजिमेंट 16 में तैनात समस्तीपुर जिले के मोहिउद्दीन नगर प्रखंड के सुल्तानपुर पूरब गांव के अमन कुमार सिंह शहीद हो गए। 16 जून की रात 9 बजे शहीद अमन (Martyr Aman Kumar Singh) के पिता सुधीर सिंह के मोबाइल पर लद्दाख से उनके बेटे के शहीद होने की जानकारी दी गई।

भारत-चीन के बीच हुई खूनी झड़प में झारखंड का जवान शहीद हो गया। विधि का विधान देखिए कि यह जवान 20 दिन पहले ही पिता बना था। अब तक वह अपने बच्चे का मुंह भी नहीं देख पाया था।

लद्दाख (Ladakh) में भारत और चीनी सैनिकों के बीच हुई झड़प में हमारे देश के 20 जवान शहीद हो गए। इसमें से एक तमिलनाडु के रामनाथपुरम के रहने वाले पलानी (Martyr Palani) हैं। 17 जून को उनका पार्थिव शरीर घर पहुंचेगा।

भारत-चीन सीमा (LAC) पर हुई झड़प में हिमाचल प्रदेश का जवान शहीद हो गया है। हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिले के वीर जवान अंकुश डोगरा (Martyr Ankush Dogra) ने सरहद पर शहादत दी है।

लद्दाख (Ladakh) में भारत और चीन के वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर दोनों सेनाओं के बीच 15 जून देर रात झड़प हो गई, जिसमें भारतीय सेना (Indian Army) के एक अधिकारी और दो जवान शहीद हो गए।

लद्दाख में चीन की सेना कई इलाकों में पीछे हट गई है लेकिन दोनों देशों के बीच पैंगोंग झील के पास फिंगर-4 को लेकर विवाद अभी भी जारी है...

चीन (China) के साथ LAC पर जारी तनाव के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने 8 जून को चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत (General Bipin Rawat) के साथ सुरक्षा समीक्षा बैठक की। इस बैठक में CDS जनरल बिपिन रावत के अलावा तीनों सेनाओं के प्रमुख भी शामिल थे।

भारत और चीन के बीच लद्दाख में जारी गतिरोध खत्म करने के लिए दोनों देशों के टॉप कमांडरो के बीच शनिवार को बातचीत हो रही है.

पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के सेनाओं के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर तनाव जारी है। भारतीय सेना (Indian Army) साफ कर चुकी है कि जब तक स्थिति पहले जैसी नहीं हो जाती, वह एक इंच भी पीछे हटने को तैयार नहीं हैं।

एलएसी पर लद्दाख से लेकर उत्तरी सिक्किम तक दोनों ओर भारी संख्या में सैनिक तैनात हैं। यह हाल के समय में एलएसी पर दोनों ओर से सबसे बड़ा जमावड़ा है।

इसी बीच चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) ने सबसे खराब स्थिति (India China Border Tension) की कल्पना करते हुए सेना को युद्ध की तैयारियां तेज करने का आदेश दिया और उससे पूरी दृढ़ता से देश की सम्प्रभुता की रक्षा करने को कहा।

यह भी पढ़ें