DRG

नक्सलियों पर नकेल कसने में सबसे आगे DRG (District Reserve Guard) के जवान होते हैं। ये एक ऐसी फौज है, जिसे नक्सलियों को धूल चटाने के लिए ही बनाया गया था।

नक्सली की पहचान वेट्टी हंगा के रूप में हुई है। गोलीबारी गादम और जंगमपाल के जंगलों के बीच हुई। गोलीबारी में कई नक्सलियों (Naxalites) के मारे जाने की खबर है।

नक्सलियों पर नकेल कसने में सबसे आगे DRG (District Reserve Guard) के जवान होते हैं। ये एक ऐसी फौज है, जिसे नक्सलियों को धूल चटाने के लिए ही बनाया गया था।

डीआरजी के जवानों को नक्सलियों के बारे में सूचना मिली थी, इसलिए जवानों को किस्टाराम के जंगलों में उतारा गया था। एसपी केएल ध्रुव ने इस मामले की पुष्टि की है।

गांव का मुन्ना जब नक्सली बना तो वो इतना बड़ा हो गया कि उसे लोगों की हत्या, लूटपाट और रंगदारी मांगने जैसे काम छोटे लगने लगे। भटका हुआ मुन्ना राम कड़ती (Munna Ram Kadti) कई सालों तक नक्सली संगठन में रहा और संगठन के लिए कई गंभीर अपराधों को अंजाम भी दिया।

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में सुरक्षा बल के जवान और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई है। कटेकल्याण के डब्बा इलाके में पुलिस के साथ एनकाउंटर हुआ है। मुठभेड़ में जवानों ने एक वर्दीधारी नक्सली को मार गिराया है। वहीं एक जवान शहीद हो गया है।

छत्तीसगढ़ के सुकमा में सुरक्षाबलों ने नक्सलियों की एक बड़ी साजिश नाकाम कर दिया है। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवानों ने शक्तिशाली IED नष्ट कर दिया। आईईडी बिछाने के पीछे नक्सलियों का इरादा सुरक्षाबलों की गाड़ियों को निशाना बनाना था।

डीआरजी और पुलिस के जवान किरंदुल थाना क्षेत्र में हिलोरी के जंगलों में सर्च ऑपरेशन पर निकले थे। इसी दौरान उनका सामना नक्सलियों से हो गया। नक्सलियों ने गोलीबारी शुरू कर दी। जवाब में जवानों ने भी फायरिंग की। इस मुठभेड़ में एक नक्सली मारा गया।

यह तीनों जब एक साथ रणभूमि में खड़ी हो जाती हैं तो नक्सलियों के पसीने छूटने लगते हैं। खासकर उस वक्त जब इनके हाथों में बंदूक हो तो वो नक्सलियों के लिए काल बन जाती हैं।

यह भी पढ़ें