Donald Trump

इस पूरे घटनाक्रम से बौखलाए राष्ट्रपति ट्रंप (Donald Trump) ने अमेरिका (America) के मुख्य शहरों में हो रहे हिंसक प्रदर्शनों को तुरंत रोकने की बात कहते हुए अपने राज्यों के गवर्नरों को ये आदेश दिया है कि वो नेशनल गार्ड के जवानों की तैनाती करके हिंसा को काबू करने का प्रयास करें और यदि वो ऐसा नहीं करते तो मजबूरन उन्हें सेना की तैनाती करनी पड़ेगी।

अमेरिका का राष्ट्रपति अपने नागरिकों का रोष ठंडा करने के लिए शांति और सहानुभूति की बातें करने की बजाय गोलियों से उड़ाने की ऐसी धमकियां दे जिनमें नस्लवादी ज़माने के भड़काऊ नारों की गूंज सुनाई देती हो, तो वह संयोग की बात नहीं हो सकती।

डोनाल्ड ट्रंप के ट्वीट से लगता है कि अगर वह नवंबर के राष्ट्रपति चुनाव में हारे तो वह नतीजों को आसानी से स्वीकार नहीं करेंगे।

एक से दो करोड़ प्रवासी मज़दूरों की बात भी कर लें तो 10 से 20 हज़ार करोड़ रुपए महीने के ख़र्च पर इन्हें सड़कों पर ठोकरें खाने और अपने साथ वायरस को फैलाने से बचाया जा सकता था। 200 लाख करोड़ की अर्थव्यवस्था में क्या एक-दो महीने एक-दो करोड़ बदहाल लोगों का गुज़र चलाने के लिए अर्थव्यवस्था के एक हज़ारवें हिस्से की गुंजाइश भी नहीं थी?

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने कोरोना वायरस (Corona Virus) की दवाईयां और वैक्सीन बनाने में जुटे भारवतंशी वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं की सराहना की है।

डोनाल्ड ट्रंप ने पिछले शुक्रवार को तीन ट्वीट किए। मिनिसोटा की आज़ादी! मिशिगन की आज़ादी और वर्जीनिया की आज़ादी! आपको क्या लगता है केवल कन्हैया कुमार और शाहीन बाग़ के लोग ही आज़ादी के नारे लगाना जानते हैं? ट्रंप भी किसी से पीछे नहीं हैं।

कोरोना वायरस (COVID-19) के अमेरिका में बढ़ते संक्रमण को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने अपने देशवासियों को आगाह किया है।

कोरोना वायरस (Coronavirus) से दुनियाभर में हाहाकार मची है। भारत में भी संक्रमण बढ़ रहा है। इसी बीच अमेरिका ने दूसरे देशों की ओर मदद के लिए हाथ बढ़ाया है।

ट्रंप साहब चाहे जितने जीत के दावे और आइसिस ख़त्म करने के दावे करते फिरें। असलियत में यह समझौता अगर किसी की जीत के रूप में देखा जा सकता है तो वह तालिबान की जीत है।

अमेरिका के राष्ट्रपति Donald Trump भारत दौरे पर हैं। पर सवाल उठता है कि इस यात्रा और मेहमान नवाज़ी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारत को क्या हासिल होगा।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप 24 फरवरी को भारत पहुंचे। डोनाल्ड ट्रंप का यह पहला आधिकारिक भारत दौरा है। ट्रंप के इस दौरे से काफी उम्मीदें हैं। भारत और अमेरिका इस दौरे पर कई बड़े समझौते कर सकते हैं, जिनमें डिफेंस डील, ट्रेड डील पर चर्चा हो सकती है।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) आज (24 फरवरी) भारत दौरे के लिए अहमदाबाद पहुंचे।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) की यात्रा से पहले सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमेटी (सीसीएस) ने नौसेना (Indian Navy) के लिए अमेरिका से 24 मल्टीरोल हेलीकॉप्टर, रोमियो (MH-60R) खरीदने का फैसला किया है।

FATF ने पाकिस्तान को 33 शर्तों की एक सूची थमा रखी है जिन्हें पूरा करने पर ही उसे ग्रे-लिस्ट से हटाया जाएगा और यदि वह नियत समय-सीमा के भीतर सारी शर्तें पूरी नहीं कर पाता है तो उसे ब्लैकलिस्ट कर दिया जाएगा।

क्या डोनाल्ड ट्रंप इंपीचमेंट से बिल क्लिंटन की तरह कोई सीख लेंगे और अपने तौर-तरीक़े बदलेंगे? ब्रिटन को यूरोपीय संघ से बाहर लाने के बाद क्या प्रधानमंत्री बोरिस जॉन्सन अब पहले से बेहतर व्यापार संधियां कर पाएंगे?

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की इजराइली-फिलिस्तीनी शांति योजना Deal of the Century है या Slap of the Century? अमेरिकी सेनेट में दो हफ़्ते से चल रही इम्पीचमेंट की सुनवाई के बावजूद डोनाल्ड ट्रंप की लोकप्रियता गिर क्यों नहीं रही है और एक छोटे देश के लिए दुनिया की मंडी में अकेले व्यापार करना आसान नहीं होगा यह जानते हुए भी ब्रिटेन के लोग यूरोपीय संघ से बाहर निकलने को आमादा क्यों हुए?

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने एक ऐतिहासिक विवाद (Israel Palestine Conflict) को खत्म करने का प्रस्ताव पेश कर एक नए विवाद को जन्म दे दिया है। ट्रंप (Donald Trump) ने मंगलवार को कहा कि यरुशलम का बंटवारा नहीं होने जा रहा है।

यह भी पढ़ें