Defence Ministry

केंद्रीय रक्षा मंत्रालय ने 23 सितंबर को भारतीय सेना (Indian Army) के लिए 118 अर्जुन टैंक मार्क1ए वर्जन (Arjun Mark-1A) की खरीद को मंजूरी दे दी है।

हेवी व्हीकल्स फैक्ट्री को मिले इस आर्डर से ‘एमएसएमई’ सहित 200 से अधिक भारतीय कंपनियों के लिए रक्षा निर्माण में एक बड़ा अवसर खुलेगा और करीब 8,000 लोगों को रोजगार के अवसर मिलेंगे।

रक्षा मंत्रालय (Defence Ministry) ने सेना को 4,960 MILAN-2T एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइलों की आपूर्ति के लिए डिफेंस पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग (DPSU) भारत डायनेमिक्स लिमिटेड के साथ करार किया है।

भारत की सरहदों पर तनाव की स्थिति बनी हुई है। चीन और पाकिस्तान लगातार मुश्किलें पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं। इसे देखते हुए सशस्त्र बलों के आधुनिकीकरण और साजो-सामान की खरीद करनी है।

आत्मनिर्भर भारत के तहत सेना (Indian Army) ने सोसायटी ऑफ इंडियन डिफेंस मैन्यूफैक्चरर्स (एसआईडीएम) के साथ एक एमओयू साइन किया है। इससे रणनीतिक आजादी का लक्ष्य हासिल करने में मदद मिलेगी और विदेशी उपकरणों पर निर्भरता घटेगी।

रक्षा मंत्रालय में नौकरी की चाह रखने वाले युवाओं के लिए बड़ा मौका है। रक्षा मंत्रालय में कई पदों पर वैकेंसी निकली हैं, जिनके लिए नोटिफिकेशन भी जारी कर दिए गए हैं।

राजनाथ सिंह ने कहा कि अब रक्षा क्षेत्र में उत्पादन को बढ़ावा दिया जाएगा। इसे रक्षा के क्षेत्र में भारत का बड़ा कदम माना जा रहा है।

यह भी पढ़ें