Covishield

केंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स (CRPF) कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में अपना फर्ज पूरी तत्परता के साथ निभा रही है। लोगों की हर संभव मदद करने के साथ ही बल अपने जवानों और उनके परिवारों का भी पूरा ख्याल रखती है।

लोन वर्राटू पार्ट-2 अभियान के तहत सरेंडर कर चुके जिन नक्सलियों (Naxalites) का आधार कार्ड बन गया है उनका शुक्रवार को वैक्सीनेशन (vaccination) कराया गया।

कोरोना टीकाकरण (Corona Vaccination) की शुरुआत से ही कोविशील्ड (Covishield) की डोज को लेकर लगातार असमंजस की स्थिति देखने को मिली है। हर बार अलग-अलग वजहों से इसके दो डोज के बीच के अंतर में बदलाव किया गया है।

कोविशील्ड (Covishield) के दो डोज के बीच गैप को लेकर लंबे समय से बहस जारी है। तीन महीनों में यह दूसरी बार है, जब इस वैक्सीन के डोज के बीच अंतराल को बढ़ाने की सिफारिश की गई है।

केंद्र सरकार ने 22 मार्च को राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को पत्र लिखकर कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड (Covishield) की दो खुराक के बीच समयांतराल को बढ़ाने को कहा।

देश में चल रहे कोरोना वैक्सीनेशन (Corona vaccination) अभियान के बीच केंद्र सरकार ने कोविशील्ड वैक्सीन (Covishield) की दूसरी डोज को लेकर बड़ा फैसला लिया है।

केंद्र सरकार ने कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) कोविशील्ड (Covishield) और कोवैक्सीन (Covaxin) के आपात इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है। सरकारी सूत्रों के मुताबिक, आज या कल से कोविड-19 वैक्सीन का परिवहन शुरू हो जाएगा।

DCGI ने सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन कोविशील्ड और भारत बायोटेक की वैक्सीन कोवैक्सीन को इमरजेंसी में इस्तेमाल करने की अंतिम मंजूरी दे दी है।

यह भी पढ़ें