Covid Vaccine

एस्ट्राजेनेका, मॉडर्ना, नोवावैक्स और फाइजर सहित तमाम दवा कंपनियों ने कहा कि ओमीक्रोन के सामने आने के बाद वे अपने टीके को उसका मुकाबला करने के लिए परिवर्तित करने का प्रयास कर रहे हैं और ये टीके 100 दिन में तैयार होने की उम्मीद है।

भारत में बीते 24 घंटे में कोरोना (Coronavirus) के 16 हजार से ज्यादा नए केस आए हैं। इसके साथ ही कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 3 करोड़ 40 लाख के पार पहुंच गया है।

महामारी शुरू होने के बाद से करीब 1000 से ज्यादा इंडोनेशियाई स्वास्थ्यकर्मी वायरस से मर चुके हैं, देश के चिकित्सा संघ ने पुष्टि की कि पीड़ितों में 401 डॉक्टर थे, जिनमें से 14 को पूरी तरह से टीका लगाया गया था।

शिवहर में 45 वर्ष से अधिक आयु के 60,369 व्यक्ति हैं और उनमें से कुछ वैक्सीन (Covid19 Vaccine) का पहला डोज चुके हैं।

सरकार ने बायोलॉजिकल–ई के साथ कोरोना रोधी वैक्सीन (Covid Vaccine) की 30 करोड़ डोज बनाने और उनको स्टोर करने के लिए समझौते को अंतिम रूप दिया है।

यह दवा डॉक्टरों की सलाह और इलाज के प्रोटोकॉल के तहत मरीजों को दी जा सकेगी। डीआरडीओ (DRDO) की लैब इन्मास ने डॉ. रेड्डीज लैब के साथ मिलकर ये दवा विकसित की गई है।

कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के मामलों में अचानक तेजी आई और मृतकों का भी आंकड़ा बढ़ने लगा तो उस दौरान भी लिए गए नमूने को जांच के लिए भेजा गया। जिसमें यूके संस्करण और इंडियन डबल म्यूटेंट संस्करण मिला।

डीआरडीओ (DRDO) ने इस दवा को अपने प्रतिष्ठित प्रयोगशाला नामिकीय औषिध व संबद्ध विज्ञान संस्थान (INMAS) ने हैदराबाद के डॉ. रेड्डी लेबोरेटरी के साथ मिलकर विकसित किया है।

किसी भी वायरस की यह प्रकृति होती है कि वह म्यूटेंट हो कर अपने रूप और अस्तित्व को बरकरार रखे। भारत में कोविड–19 की दूसरी भयावह लहर के पीछे कोरोना वायरस (Coronavirus) के इसी वेरियेंट को जिम्मेदार माना जा रहा है।

कोरोना (Coronavirus) से पीड़ित महिला के परिजनों ने आरोप लगाया कि अस्पताल ने उनसे सरकार के इलाज के तय रेट से 20 गुना ज्यादा पैसे वसूले और एक दिन का 3.7 लाख रुपए लिए।

दिल्ली सरकार के वरिष्ठ वकील राहुल मेहरा ने केंद्र से आग्रह किया है कि अगर सेना (Indian Army) 10 हजार बेड के साथ कोरोना रोगियों के लिए चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाए तो वह आभारी होगी।

राकेश का कहना है कि जब सारे रिश्ते नाते काम नहीं आए तो दिल्ली पुलिस ने उनकी मदद कर इंसानियत की मिसाल पैदा की है। वह दिल्ली पुलिस के इस एहसान को अपनी जिंदगी में कभी भूल नहीं सकते हैं।

डॉ. सुरेश कुमार के मुताबिक, जितना जल्दी संभव हो 45 साल के उपर से सभी लोग कोरोना (Coronavirus) की वैक्सीन लगावा लें और घर से बिल्कुल न निकलें। ऐसा करके वे अपने और अपने परिवार की जान बचा सकते हैं।

महासचिव जीन–पियरे लैक्रोइक्स और संचालन सहायता के लिए अवर महासचिव अतुल खरे ने संयुक्त राष्ट्र शांति सैनिकों के लिए वैक्सीन (Covid Vaccine) की खुराक देने के लिए भारत की तारीफ की।

देश में 41 लाख से ज्यादा लोगों को कोरोना वायरस रोधी वैक्सीन (Covid Vaccine) लगाए जा चुके हैं। ऐसे में कोरोना वायरस रोधी वैक्सीन (Covid Vaccine) लगाने के मामले में भारत एक फरवरी को दुनिया के टॉप 5 देशों की सूची में शामिल था।

कोविड-19 वैक्सीन (Covid Vaccine) की अधिकतर खुराक अमीर देशों ने खरीद ली हैं। दुनिया के विकासशील देशों में वैक्सीन पहुंचाने लिए शुरू की गई संयुक्त राष्ट्र समर्थित परियोजना कोवैक्स को वैक्सीन, धन और साजो-समान संबंधी समस्या से जूझना पड़ रहा है।

कैली मेकनैनी ने कहा, ‘‘कल अमेरिका ने चिकित्सीय चमत्कार देखा। देशभर में कोविड-19 से निपटने के लिए अग्रिम मोर्चे पर काम कर रहे कर्मियों को वैक्सीन (Vaccine) की पहली खुराक दी गई।

यह भी पढ़ें