CoronaVirus cases

कर्नाटक, महाराष्ट्र के बाद अब राजस्थान और दिल्ली में भी ओमिक्रॉन के मामले सामने आये हैं। राजस्थान में 9 मामले‚ महाराष्ट्र में 7 नए मामलों और दिल्ली में 1 मामले की पुष्टि के बाद देश में इससे संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 21 हो गई है।

ओमीक्रॉन (Omicron Virus) के मामले सामने आने पर दहशत में आने की जरूरत नहीं है‚ बल्कि जागरूक होने की जरूरत है। कोविड से जुड़े नियमों का अनुपालन करें और भीड़ में जाने से बचें।

दुनिया के अन्य देशों में मामलों में बढ़ोतरी हुई है और नए चिंताजनक स्वरूप की पुष्टि लगातार बने हुए जोखिम की याद दिलाती है और वायरस (Coronavirus) से बचाव करने और इसे फैलने से रोकने के लिए हमें हमारे सर्वश्रेष्ठ प्रयास जारी रखने की आवश्यकता है।

इस गाइडलाइंस में कहा गया है कि आरटी–पीसीआर या अन्य किसी परीक्षण के जरिए कोरोना (Coronavirus) का पता लगने के 30 दिन के अंदर हुई मौत को कोरोना से मृत्यु माना जाएगा।

डेल्टा स्वरूप (Delta Variant) मानव कोशिका पर हमला करने के बाद यह वायरस तेजी से खुद को दोहराता है। इससे फेफड़े जैसे अंगों में सूजन आ जाती है।

महामारी शुरू होने के बाद से करीब 1000 से ज्यादा इंडोनेशियाई स्वास्थ्यकर्मी वायरस से मर चुके हैं, देश के चिकित्सा संघ ने पुष्टि की कि पीड़ितों में 401 डॉक्टर थे, जिनमें से 14 को पूरी तरह से टीका लगाया गया था।

कोरोना (Coronavirus) से पीड़ित महिला के परिजनों ने आरोप लगाया कि अस्पताल ने उनसे सरकार के इलाज के तय रेट से 20 गुना ज्यादा पैसे वसूले और एक दिन का 3.7 लाख रुपए लिए।

दिल्ली सरकार के वरिष्ठ वकील राहुल मेहरा ने केंद्र से आग्रह किया है कि अगर सेना (Indian Army) 10 हजार बेड के साथ कोरोना रोगियों के लिए चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाए तो वह आभारी होगी।

डॉ. सुरेश कुमार के मुताबिक, जितना जल्दी संभव हो 45 साल के उपर से सभी लोग कोरोना (Coronavirus) की वैक्सीन लगावा लें और घर से बिल्कुल न निकलें। ऐसा करके वे अपने और अपने परिवार की जान बचा सकते हैं।

यह भी पढ़ें