corona vaccine

देशभर में 16 जनवरी को कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) लगाने का सबसे बड़ा अभियान शुरू होने जा रहा है। इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) शुरू करेंगे। इस बीच देश के अलग-अलग हिस्सों में वैक्सीन की खेप पहुंचना जारी है।

कोरोना (Coronavirus) से लड़ने के लिए वैक्सीन (Corona Vaccine) अब आ चुका है और कई देश इसके साथ अपना टीकाकरण अभियान (Vaccination Program) भी शुरू कर चुके हैं। भारत में भी 16 जनवरी से बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियान की शुरुआत होने वाला है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) 16 जनवरी से देश भर में होने वाले कोरोना वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) अभियान की शुरुआत करेंगे। यह कोरोना के खिलाफ दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान है।

केंद्र सरकार ने कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) कोविशील्ड (Covishield) और कोवैक्सीन (Covaxin) के आपात इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है। सरकारी सूत्रों के मुताबिक, आज या कल से कोविड-19 वैक्सीन का परिवहन शुरू हो जाएगा।

DCGI ने सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन कोविशील्ड और भारत बायोटेक की वैक्सीन कोवैक्सीन को इमरजेंसी में इस्तेमाल करने की अंतिम मंजूरी दे दी है।

देश में कोरोना के मामलों में लगातार कमी आ रही है। बीते 24 घंटे में देश में 18,177 नए मामले सामने आए हैं और 20,923 लोग कोरोना से ठीक हुए हैं।

खबर है कि देश में जल्द कोरोना वैक्सीन को मंजूरी मिल सकती है। सोमवार को देश में कुछ जगहों पर वैक्सीनेशन को लेकर एक ड्राई रन किया जा रहा है।

देश में आज यानी 28 दिसंबर से दो दिनों तक कोविड-19 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) के लिए टीकाकरण से पहले होने वाला ट्रायल से पंजाब सहित चार राज्यों में शुरू होने जा रहा है। यह 29 दिसंबर तक चलेगा।

ब्रिटेन में पाए गए कोरोना के नए स्ट्रेन के बाद दुनियाभर में हड़कंप मच गई है। कोरोना वायरस के खिलाफ जिस समय दुनिया वैक्सीन बनाने में जुटी है, तभी यूके (UK) में सामने आए कोरोना के नए स्ट्रेन ने चिंताओं को बढ़ा दिया है।

राष्ट्रपति ने कहा कि फाइजर और मॉर्डना ने घोषणा की है कि उनके द्वारा विकसित वैक्सीन (Corona Vaccine) करीब 95 फीसदी प्रभावी हैं जो उम्मीद से कहीं अधिक है। ये वैक्सीन भी सुरक्षित हैं।

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने महामारी के दौरान कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) का भारत में ऑक्सफोर्ड के कोरोना टीके कोविशील्ड के आपातकालीन उपयोग की मंजूरी दिए जाने का अनुरोध किया है।

कोरोना महामारी और वैक्सीन (Corona Vaccine) को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की अगुवाई में आज सर्वदलीय बैठक हुई। इस बैठक में लोकसभा और राज्यसभा के सांसदों ने भाग लिया।

कोरोना वैक्सीन पर डॉ गुलेरिया ने कहा कि भारत में कोविड के जो टीके बन रहे हैं, वह आखिरी चरण में हैं। 70 से 80 हजार वालंटियर्स ने ये टीके लगवाए हैं

ब्रिटेन (UK) में फाइजर और बायोएनटेक (Pfizer-BioNTech Coronavirus Vaccine) की कोरोना वायरस वैक्सीन को मंजूरी दे दी गई है। इसी के साथ ब्रिटेन कोविड-19 वैक्सीन के टीके को मंजूरी देने वाला पहला पश्चिमी देश बन गया है।

रूसी वैक्सीन स्पुतनिक-वी के लिए भारत की दवा कंपनी हेटरो ने रशियन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड से करार किया है। हर साल वैक्सीन की 10 करोड़ डोज बनाई जाएंगी।

कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए देशभर में लॉकडाउन सहित कई उपाय किए गए। लेकिन अब भी इसका तांडव कम नहीं हुआ है। अब वैक्सीन ही एक आखिरी उपाय दिख रहा है। विश्व भर में कई देशों ने इसके वैक्सीन ( Corona Vaccine) पर काम शुरू कर दिया है।

इस वैक्सीन की एक डोज अंतरराष्ट्रीय मार्केट में 10 डॉलर से कम की होगी। वहीं, रूस के नागरिकों को ये वैक्सीन फ्री में मिलेगी।

यह भी पढ़ें