BSF

पाकिस्‍तान (Pakistan) अपना हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। सीमा पार से घुसपैठ की कोशिश लगातार की जा रही है। पंजाब में भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर एक बार फिर ड्रोन (Drone) देखा गया है।

नक्सली (Naxalites) मौके से भागने में सफल रहे। हालांकि इस दौरान सुरक्षाबलों ने मौका-ए-वारदात से एक बन्दूक, छह कारतूस, चार डेटोनेटर, दो वॉकी-टॉकी रेडियो सेट, वर्दी और पोस्टर जब्त किए गए।

भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के 1988 बैच के ऑफिसर पंकज कुमार सिंह (Pankaj Kumar Singh) ने 31 अगस्त को सीमा सुरक्षा बल (BSF) के नए महानिदेशक (DG) के रूप में जिम्मेदारी संभाल ली है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली कैबिनेट की नियुक्ति समिति (एसीसी) ने 25 अगस्त को पंकज सिंह को नये बीएसएफ महानिदेशक के रूप में नियुक्त करने का आदेश जारी किया था।

गिरफ्तार जहांगीर हिज्ब-ऊत-तहरीर संगठन से जुड़ा था, लेकिन मूल रूप से वह प्रतिबंधित बांग्लादेशी आतंकी संगठन जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश (JMB) का सदस्य है।

पश्चिम बंगाल के कूचबिहार में भारत-बांग्लादेश सीमा पर घुसपैठियों ने भारत की सीमा में घुसने की कोशिश की है। बीएसएफ ने इस घुसपैठ को नाकाम कर दिया और 2 घुसपैठियों को मार गिराया।

BSF के ASI धर्मपाल का हरियाणा के पानीपत स्थित पैतृक गांव वैसर में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।

बिहार के बांका जिले के बीएसएफ (BSF) जवान चंदन कुमार सिंह पंजाब के अटारी बॉर्डर पर देश की रक्षा करते हुए शहीद हो गए।

ये ऐसा इलाका है जहां सुरक्षाबलों को कई नक्सली हमलों का सामना करना पड़ा है। फिर भी यहां जवानों ने पूरे जज्बे के साथ तिरंगा फहराया।

जम्मू कश्मीर (Jammu and Kashmir) में आतंकियों ने एक बार फिर नापाक साजिश को अंजाम दिया है। आतंकियों ने सुरक्षाबलों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की है।

बीएसएफ (BSF) यानी सीमा सुरक्षा बल हमेशा जनता की रक्षा के लिए तैयार रहती है। ऐसा ही एक मामला मुर्शिदाबाद जिले के शिकारपुर गांव से आया है।

शहीद हुए बीएसएफ के सब इंस्पेक्टर भुरू सिंह का आज पानीपत स्थित उनके गांव में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया।

सीमा सुरक्षा बल (BSF) दिन-रात देश की सरहदों पर तैनात है। इस बल (BSF) की वीरांगनाएं भारत-बांग्लादेश के दूरदराज के सीमावर्ती क्षेत्रों में भी मातृभूमि की सेवा में दिन-रात लगी हैं।

त्रिपुरा के धलाई जिले में उग्रवादियों ने हमला किया है। इस हमले में सीमा सुरक्षा बल (BSF) के 2 जवान शहीद हो गए हैं।

जम्मू के बारी-ब्राह्मण, चिलाद्या और गगवाल क्षेत्रों में गुरुवार रात करीब 8 बजे संद‍िग्‍ध पाकिस्तानी ड्रोन (Drones) देखे गए। पहले से ही अलर्ट सुरक्षाबलों ने फौरन मोर्चा संभाल लिया

Jammu and Kashmir: जिस वक्त बादल फटा उस समय कोई भी श्रद्धालु गुफा के अंदर मौजूद नहीं था। केवल श्राइन बोर्ड के कर्मचारी और सुरक्षाकर्मी वहां मौजूद हैं।

सीमा सुरक्षाबल (BSF) के जवान देश की सरहदों की सुरक्षा करने के साथ ही नागरिकों की हर संभव मदद करते हैं। कोरोना काल में भी BSF के जवानों ने लोगों की हर तरह से मदद की। उन्हें जरूरत के समान पहुंचाने से लेकर मेडिकल सुविधाएं मुहैया कराने तक, जवानों ने दोहरी जिम्मेदारी निभाई है।

यह भी पढ़ें