Bastar

नक्सल प्रभावित राज्य छत्तीसगढ़ में नक्सलियों से जुड़ी हिंसक घटनाओं में कमी आ रही है। इसका सुबूत है इस धुर नक्सल प्रभावित क्षेत्र में पर्यटन में हो रहा इजाफा।

लगातार कमजोर पड़ रहे नक्सली अपने संगठन को मजबूत करने के लिए रोज नई-नई चालें चल रहे हैं। छत्तीसगढ़ के बस्तर (Bastar) में नक्सलियों की साजिश का एक सनसनीखेज खुलासा हुआ है।

छत्तीसगढ़ के धुर नक्सल प्रभावित बस्तर (Bastar) जिले में एक स्थाई वारंटी सहित दो नक्सलियों को पुलिस ने गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की।

छत्तीसगढ़ के बस्तर (Bastar) जिले के दरभा इलाके में नक्सलियों ने 6 नवंबर को विस्फोट किया। इस विस्फोट में एक ग्रामीण बुरी तरह घायल हो गया।

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बस्तर संभाग में सुरक्षाबल के जवानों ने नक्सलवाद के खिलाफ बड़ी कामयाबी हासिल की है। बस्तर संभाग के तीन जिलों में अलग-अलग मुठभेड़ में सुरक्षाबल के जवानों ने 6 नक्सलियों को मार गिराया है।

यह मानव रहित विमान की तरह हाई रेजॉलूशन कैमरे से लैस है। यह दूर बैठै व्यक्ति को लाइव तस्वीरें और वीडियो भेज सकता है। यह लगातार 18 घंटे तक उड़ान भर सकता है। इसके अलावा यह ड्रोन कई और अत्याधुनिक तकनीकों से लैस है।

छत्तीसगढ़ में एक बार फिर नक्सलियों ने अपने नापाक इरादे को अंजाम दिया है। 31 जुलाई की सुबह बस्तर के पुशपाल में नक्सलियों द्वारा किए गए आईईडी ब्लास्ट में सीआरपीएफ का एक जवान शहीद हो गया।

धुर नक्सल प्रभावित सुकमा जिले के 29 आदिवासी परिवारों की घर वापसी हो रही है। उनके वापस आने की कवायद शुरू हो गई है। सलवा जुड़ूम के दौरान नक्सलियों ने इनके घर जला दिए थे।

बस्‍तर लोकसभा सीट पर 11 अप्रैल को पहले चरण के मतदान के दौरान नक्‍सलियों ने चुनावी प्रक्रिया में बाधा डालने की कोशिश की। नक्‍सलियों ने मतदान दल पर ओरछा हेलीपेड के पास फायरिंग की। दल के सुरक्षाबलों की जवाबी कार्रवाई में एक नक्‍सली के मारे जाने की भी खबर है।

नम्रता दक्षिणी बस्तर के गीदम कस्बे की रहने वाली हैं। इस छोटे से कस्बे में जन्मी और पली-बढ़ी नम्रता जैन ने इस बार यूपीएससी की परीक्षा में 12वीं रैंक लाकर बस्तर का नाम पूरी दुनिया में रोशन किया है। नम्रता पहले 2016 में यूपीएससी की परीक्षा उत्तीर्ण कर 99वां रैंक लाई थीं। नम्रता को आईपीएस का कैडर मिला था।

बस्तर के कोंडागांव में एक सरेंडर महिला नक्सली ने पुलिस में अपने ही साथी नक्सलियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। महिला नक्सली अपने दस्ते के साथी नक्सलियों से इतनी परेशान हो गई थी कि उसने आत्मसमर्पण कर दिया।  

अब तक पैम्पलेट्स, चिट्ठी और प्रेस रिलीज़ के जरिए संवाद करने वाले नक्सली सोशल मीडिया पर उतर आए हैं। व्हॉट्सऐप (WhatsApp) उनका नया औज़ार बन गया है।

जिस जगह लोग अपने ही वाहन से गुजरने से कतराते थे वहां आज महिलाएं ई-रिक्शा चलाकर क्षेत्र के विकास की गौरव गाथा लिख रही हैं।

बस्तर की बेटियां इस बदलती दुनिया के साथ कंधे से कंधा मिलाकर आगे बढ़ रही हैं। जहां एक तरफ अकादमिक क्षेत्र में बुलंदी को छू रही हैं। डॉक्टर, इंजीनियर से साथ आईएएस बन रही हैं तो वहीं खेल एवं सिनेमा जगत में भी अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो रही हैं।

नक्सलियों ने 11 मार्च को दंतेवाड़ा से एसआई ललित कश्यप और एक शिक्षक जयसिंह कुरेटी को अगवा कर लिया। आखिरकार, पुलिस का दबाव पड़ने के बाद 12 मार्च को नक्सलियों ने उन्हें रिहा कर दिया।

छत्तीसगढ़ के बस्तर की हर्बल चाय ने इस वक़्त पूरी दुनिया में धूम मचाया हुआ है।

नक्सलियों कें खौफ में जीने वाले बस्तर के कोंडागांव में लड़कियों की पहली हॉकी टीम अब देश का नाम रोशन करेगी। आइटीबीपी (इंडो तिब्बत बॉर्डर पुलिस) ने छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित इलाके से 2 साल के लगातार मेहनत के बाद बालिकाओं की हॉकी टीम तैयार करने में सफलता हुई है।

यह भी पढ़ें