Bastar

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के धुर नक्सल बस्तर (Bastar) 21 सितंबर से जगदलपुर से रायपुर और हैदराबाद के लिए हवाई यात्री सेवा शुरू हो रही है। इसके संचालन के लिए भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण की पांच सदस्यीय टीम 20 सितंबर को जगदलपुर पहुंच गई थी।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के धुर नक्सल प्रभावित बस्तर (Bastar) में स्थानीय पुलिस ने नक्सलियों (Naxalites) के खिलाफ जबरदस्त अभियान शुरू किया है। इसके तहत नक्सलियों का आदिवासी विरोधी चेहरे को बेनकाब किया जा रहा है।

सुरक्षाबल अब छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में लाल आतंक का गढ़ कहे जाने वाले बस्तर (Bastar) के सुदूर जंगलों तक पहुंचने की तैयारी कर रहे हैं। क्योंकि बस्तर के उन जंगलों में अब भी नक्सली (Naxals) समानांतर सत्ता चला रहे हैं।

आयता ने भी जिंदगी के करीब 13 से इसी मुगालते में गुजार दिए कि वह अपने समाज और आदिवासियों के हितों की लड़ाई लड़ रहा है। पर, जब असलियत से सामना हुआ तो संगठन में उसका दम घुटने लगा।

बस्तर पुलिस ने इन समस्याओं से निपटने का एक सही तरीका ढूंढ निकाला है। ऐसा तरीका जिससे नक्सलियों का अर्बन नेटवर्क और कथित समाजसेवी संस्थाओं की ये कोशिशें नाकाम हो जाएंगी।

आयता ने भी जिंदगी के करीब 13 से इसी मुगालते में गुजार दिए कि वह अपने समाज और आदिवासियों के हितों की लड़ाई लड़ रहा है। पर, जब असलियत से सामना हुआ तो संगठन में उसका दम घुटने लगा।

दरअसल बीते कुछ समय से बस्तर के स्थानीय नक्सली लगातार लाल आतंक का रास्ता छोड़ रहे हैं और मुख्यधारा में जुड़ रहे हैं। इसी वजह से नक्सलियों का जनाधार गिरता जा रहा है।

राष्ट्रीय त्योहारों पर पहले यहां के गांवों में लाला आतंक के खौफ से तिरंगे के बजाय नक्सलियों का काला झंडा फहराया जाता था। या फिर लोग डर के मारे न तो तिरंगा फहराते थे, न ही इस दिन खुशियां मना पाते थे।

पिछले दो महीनों में 70 नक्सलियों ने लोन वर्राटू अभियान के तहत सरेंडर किया है। जिसमें एक लाख से लेकर 8 लाख रुपये तक के इनामी नक्सली शामिल हैं।

बस्तर (Bastar) के इतिहास में यह पहला मौका है जब मानसून काल में इस खूबसूरत जलप्रपात को निहारने आने वाले स्थानीय लोगों और पर्यटकों को यहां आने के लिए प्रतिबंध लगा दिया गया है।

छत्तीसगढ़ का बस्तर (Bastar) जिला, जिसकी पहचान नक्सलवाद (Naxalism) से होती है, उसी बस्तर जिले के एक छोटे से पंचायत की इस पहल ने देश भर में कोरोना के संकटकाल में मिसाल कायम किया है।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के धुर नक्सल प्रभावित बस्तर (Bastar) के जंगलों में ट्रेनिंग करते नक्सलियों का एक वीडियो (Naxali Video) सामने आया है। इस वीडियो में नक्सली ट्रेनिंग लेते नजर आ रहे हैं। इतना ही नहीं, वीडियो में नक्सलियों (Naxals) के नाम के साथ उनके चेहरे भी साफ-साफ दिखाए गए हैं।

नक्सल इलाके में काम कर रहे दंतेवाड़ा पुलिस अधीक्षक डॉ. अभिषेक पल्लव और बस्तर (Bastar) के सब डिविजनल पुलिस ऑफीसर (एसडीओपी) डॉ. यूलंडन यार्क अपनी मेडिकल शिक्षा का इस्तेमाल ग्रामीणों के स्वास्थ्य की बेहतरी के लिए कर रहे हैं।

छत्तीसगढ़ के अति नक्सल प्रभावित दक्षिण बस्तर में एक ओर जहां नए पुलिस कैम्प (Police Camp) खोलने का विरोध हो रहा है, वहीं दूसरी ओर मध्य बस्तर में अतिसंवेदनशील और घोर नक्सल प्रभावित गांव भड्डरीमहु के ग्रामीणों ने पुलिस कैम्प (Police Camp) खोलने की मांग की है।

नक्सलियों (Naxals) से निपटने के लिए पुलिस फोर्स ने अब रणनीति बदल ली है। बस्तर आइजी सुंदरराज पी के मुताबिक, पिछले तीन सालों में फोर्स ने एरिया डॉमिनेशन में महत्वपूर्ण सफलता हासिल की है।

नक्सल प्रभावित राज्य छत्तीसगढ़ में नक्सलियों से जुड़ी हिंसक घटनाओं में कमी आ रही है। इसका सुबूत है इस धुर नक्सल प्रभावित क्षेत्र में पर्यटन में हो रहा इजाफा।

लगातार कमजोर पड़ रहे नक्सली अपने संगठन को मजबूत करने के लिए रोज नई-नई चालें चल रहे हैं। छत्तीसगढ़ के बस्तर (Bastar) में नक्सलियों की साजिश का एक सनसनीखेज खुलासा हुआ है।

यह भी पढ़ें