Bangladesh

सेना ने खास रणनीति 'वॉर ऑफ मूवमेंट' के जरिए दुश्मनों के कब्जे वाले इलाकों पर कहर बरपा कर खुद का कब्जा जमाया था। यहां तक भारतीय सेना ढाका तक पहुंच गई थी।

Indian Army ने योजनाबद्ध तरीके से 3 दिसंबर, 1971 की सुबह कार्रवाई शुरू की। भारी गोलाबारी के बीच, बंकरों को ध्वस्त करते हुए, वे अपने लक्ष्य की ओर आगे बढ़ते चले गए।

CAA कानून का डर बांग्लादेशी घुसपैठियों के चेहरों पर साफ दिखने लगा है। बांग्लादेशी घुसपैठिए अब अपने वतन लौट रहे हैं। वे अंधेरी रात में बॉर्डर पार कर रहे हैं।

एटीएस द्वारा पिछले दिनों पटना से गिरफ्तार बांग्लादेशी आतंकियों से पूछताछ में एक बड़ी बात सामने आई है। पूछताछ में पता चला है कि ये सभी आतंकी भारत में आईएसआईएस का एक नया मॉड्यूल खड़ा करने में लगे थे। आईएसआईएस शुरुआत से ही भारत में अपना आतंकी नेटवर्क खड़ा करने की कोशिश में लगा हुआ था।

यह भी पढ़ें