America

अमेरिकी इंटेलिजेंस एजेंसी का कहना है कि LAC में अभी भी भारत-चीन के बीच गतिरोध है। भारत और पाकिस्तान (Pakistan) के बीच भी तल्खी के और बढ़ने की संभावना है।

दुनियाभर में आतंकवाद को पनाह देने वाले देश के रूप में बदनाम हो चुके पाकिस्तान (Pakistan) को अमेरिका ने करारा झटका दिया है।

चीन की बढ़ती महत्वाकांक्षा को ध्यान में रखते हुए अमेरिका अपनी सुरक्षा को मजबूत करने में जुटा है। ये अटैक और इंटरसेप्टर मिसाइलें होंगी।

अमेरिका (America) के रक्षा सचिव (मंत्री) लॉयड ऑस्टिन (Lloyd J Austin) आज यानी 19 मार्च को तीन दिवसीय भारत दौरे पर आ रहे हैं। यह उनकी पहली विदेश यात्रा का अंतिम पड़ाव है।

भारत (India) के साथ LAC पर पिछले करीब 8 महीनों से तनाव जारी था। कई दौर की द्वीपक्षीय बातचीत के बाद सीमा पर स्थिति बेहतर हो पाई है। वहीं, अमेरिका (America) के साथ भी चीन (China) के रिश्ते हमेशा से ही खराब रहे हैं।

कश्मीर का मुद्दा दुनियाभर की नजरों में रहता है। इस बीच खबर मिली है कि भारत जम्मू-कश्मीर के विकास के लिए जो कदम उठा रहा है, उसका अमेरिका ने स्वागत किया है।

इससे पहले उत्तरी इराक में 16 फरवरी को इरबिल इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर भी ऐसा ही एक हमला (Terror Attack) हुआ था। जिसमें अमेरिका सैन्य गठबंधन बल के एक जवान की मौत हो गई थी

India China Tension: भारत-चीन तनाव के बीच एक बड़ी खबर सामने आई है। चीन अपनी परमाणु क्षमता को बढ़ा रहा है और 16 भूमिगत कक्ष बना रहा है।

अमेरिका (America) ने म्यांमार (Myanmar) में पैदा हुए हालातों के मद्देनजर अपने नागरिकों की सुरक्षा को लेकर चिंता जाहिर की है। म्यांमार स्थित अमेरिकी दूतावास (US Embassy) ने ताजा हालात को देखते हुए अपने नागरिकों से घरों में ही रहने की अपील की है।

महात्मा गांधी की ये स्टैच्यू (Statue) भारत सरकार ने डेविस शहर को उपहार स्वरूप प्रदान की थी और गांधी विरोधी व भारत विरोधी संगठनों के विरोध प्रदर्शनों के बीच शहर परिषद ने चार साल पहले इसे स्थापित किया था।

पिछले कई सालों से अमेरिकी सेना (American Army) अलकायदा और आईएसआईएस (ISIS) जैसे आतंकी संगठनों से निपटने के लिए यमन (Yemen) में तैनात है।

अपने मार्गदर्शन, व्यापक अनुभव व वैज्ञानिक तरीकों का पालन कर ऊर्जा विभाग में नियुक्त (Appoint) हुए ये सभी नये अधिकारी स्वच्छ ऊर्जा पर आधारित इकोनॉमी के ग्रोथ में योगदान करेंगे

78 वर्षीय जो बाइडन (Joe Biden) को मुख्य न्यायाधीश जॉन रॉबर्ट्स ने कैपिटल बिल्डिंग के ‘वेस्ट फ्रंट’ में पद व गोपनीयता की शपथ दिलायी। पारंपरिक रूप से इसी जगह पर अमेरिका के राष्ट्रपति को शपथ दिलाई जाती है।

अमेरिका के मुख्य न्यायाधीश जॉन रॉबर्ट्स 12 बजते (भारतीय समयानुसार रात 10:30 बजे)  ही कैपिटल के वेस्ट फ्रंट में जो बाइडन (Joe Biden) को पद की शपथ दिलाएंगे

राजधानियों में हथियारों से लैस सैनिकों (US Army) को तैनात किया गया है। पूरे अमेरिका के सभी राज्यों के संसद भवनों में भारी भरकम हथियारों से लैस जवानों को तैनात किया गया है।

पिछले हफ्ते कैपिटल बिल्डिंग में ट्रंप (Donald Trump) के समर्थकों ने हमला किया था जिसमें कैपिटल पुलिस के एक अधिकारी और चार अन्य लोगों की मौत हो गई थी। जिसके बाद यूट्यूब (Youtube) ने एक सप्ताह के लिए ट्रंप का चैनल निलंबित कर दिया है।

अमेरिका (America) में जैसे-जैसे नव निर्वाचित राष्‍ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) के शपथ लेने के दिन नजदीक आ रहे हैं, वैसे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के समर्थक हिंसा पर उतारू हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें