Jharkhand: एक-एक करोड़ के 3 इनामी नक्सली हुए एक्टिव, पुलिस ने शुरू किया अभियान

Jharkhand: इनमें पीराटाड़ गिरिडीह मिसिर बेसरा, अनल दा उर्फ तूफान और टुंडी धनबाद का रहने वाला प्रयाग मांझी शामिल है। ये तीनों नक्सली एक-एक करोड़ के इनामी हैं।

PLFI

सांकेतिक तस्वीर।

झारखंड (Jharkhand) की बोकोरो पुलिस इस समय 15 नक्सलियों की तलाश कर रही है। ये नक्सली धनबाद, गिरडीह और हजारीबाग के हैं। इन नक्सलियों में लंबे समय से फरार दुर्योधन के अलावा अजय महतो और रघुनाथ भी शामिल हैं। ये नक्सली कई संगठनों में सक्रिय हैं।

झारखंड (Jharkhand) में नक्सलियों के खिलाफ सुरक्षाबल लगातार अभियान चला रहे हैं। हालांकि फिर भी नक्सली अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं और उन्होंने राज्य में अपनी गतिविधियां बढ़ा दी हैं।

इनमें पीराटाड़ गिरिडीह मिसिर बेसरा, अनल दा उर्फ तूफान और टुंडी धनबाद का रहने वाला प्रयाग मांझी शामिल है। ये तीनों नक्सली एक-एक करोड़ के इनामी हैं।

इन नक्सलियों (Naxalites) की सूचना मिलते ही झारखंड (Jharkhand) पुलिस चौंकन्नी हो गई है और बोकोरो पुलिस ने तो इनकी गिरफ्तारी के लिए तैयारी भी शुरू कर दी है।

बोकोरो पुलिस इस समय 15 नक्सलियों की तलाश कर रही है। ये नक्सली धनबाद, गिरडीह और हजारीबाग के हैं। इन नक्सलियों में लंबे समय से फरार दुर्योधन के अलावा अजय महतो और रघुनाथ भी शामिल हैं। ये नक्सली कई संगठनों में सक्रिय हैं।

इनामी नक्सलियों में पीराटाड़ गिरिडीह के रहने वाले मिसिर बेसरा उर्फ भास्कर उर्फ सुनिर्मल जी उर्फ सागर का नाम भी शामिल है।

बता दें कि झारखंड (Jharkhand) के पश्चिम सिंहभूम जिला में सुरक्षाबलों को हालही में बड़ी कामयाबी मिली थी। यहां 15 अगस्त को हुई चेकिंग के दौरान पुलिस और सुरक्षाबलों ने 4 हार्डकोर नक्सलियों को गिरफ्तार किया था।

ये भी पढ़ें- जम्मू-कश्मीर में हिमस्खलन का शिकार हुआ था जवान, 220 दिन बाद बरामद हुआ पार्थिव शरीर

मिली जानकारी के मुताबिक झारखंड (Jharkhand) के गुदड़ी और लोढाई के बीच वाहन चेकिंग की जा रही थी। इस दौरान पीएलएफआई (PLFI) के चार हार्डकोर नक्सलियों के बारे में जानकारी मिली। जिन्हें बाद में गिरफ्तार कर लिया गया।

नक्सलियों का नाम सोमनाथ सांडिल, पांडे होनहागा, महादेव गोप और संतोष मुर्मू था। संतोष मुर्मू की उम्र 35 साल है, बाकी के नक्सली 25 साल से कम उम्र के हैं।

पकड़े गए नक्सलियों के पास से 2 देसी कट्टा, 10 जिंदा कारतूस, 2 मैगजीन, 4 मोबाइल फोन, 2 बाइक और लेवी वसूली की रसीद बरामद हुई थी। ये सभी नक्सली खतरनाक हैं और इनके ऊपर हत्या, फिरौती और मुठभेड़ के कई मामले दर्ज हैं।

नक्सलियों से अन्य जानकारियां निकाली जा रही हैं। बता दें कि सुरक्षाबलों की ओर से नक्सलियों के खिलाफ कड़ा अभियान चलाया जा रहा है और इसमें सुरक्षाबलों को सफलता भी मिली है।

ये भी देखें- 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें