छत्तीसगढ़: कमजोर गांव वालों पर प्रेशर बना रहे नक्सली, 2 परिवारों को आधी रात में गांव से बाहर निकाला

नक्सली (Naxalites) लोगों को पुलिस का मुखबिर बताकर परेशान कर रहे हैं। कई लोगों को तो उन्होंने यही कारण देकर गांव से बेदखल कर दिया है।

PLFI

सांकेतिक तस्वीर।

नक्सली (Naxalites) लोगों को पुलिस का मुखबिर बताकर परेशान कर रहे हैं और उनकी हत्याएं कर रहे हैं। कई लोगों को तो उन्होंने यही कारण देकर गांव से बेदखल भी कर दिया है।

बस्तर में नक्सली (Naxalites) बौखलाए हुए हैं क्योंकि सुरक्षाबलों की ओर से उनके खिलाफ लगातार अभियान चलाया जा रहा है। ऐसे में ये नक्सली अब आम गांव वालों को परेशान कर रहे हैं। नक्सलियों ने कमजोर आदिवासियों को भी निशाना बनाना शुरू कर दिया है।

नक्सली लोगों को पुलिस का मुखबिर बताकर परेशान कर रहे हैं और उनकी हत्याएं कर रहे हैं। कई लोगों को तो उन्होंने यही कारण देकर गांव से बेदखल भी कर दिया है।

सुकमा में नक्सलियों ने 2 परिवारों के खिलाफ ऐसा ही माहौल तैयार किया है और उन्हें गांव से बाहर कर दिया है। नक्सलियों ने इन दोनों परिवारों को ये धमकी दी है कि अगर वह गांव वापस लौटे, तो उन्हें मार दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें- जम्मू-कश्मीर: नाले से मिला भागे हुए आतंकी का शव, बडगाम में 4 दिन पहले सुरक्षाबलों से हुई थी मुठभेड़

मामला पोलमपल्ली थाना क्षेत्र के पालामड़गु गांव का है, यहां सैकड़ों की संख्या में नक्सली दो परिवारों के घर पहुंचे और उन्हें फौरन गांव छोड़कर जाने के लिए कहा। इसके बाद रात में ही दोनों परिवारों को गांव छोड़ना पड़ा और उन्होंने पुलिस के कैंप में अपनी रात बिताई।

नक्सलियों ने रात को ही एक जन अदालत लगाकर यह फरमान सुनाया। इस पूरे मामले के बाद गांव के लोग डरे हुए हैं कि कहीं अगला नंबर उनका ना आ जाए।

मिली जानकारी के मुताबिक नक्सलियों ने जिन परिवारों को निकाला है, उनमें से एक पुलिस के जवान का परिवार है। वहीं दूसरे परिवार पर पुलिस की मुखबिरी करने का आरोप है। दोनों परिवार में कुल मिलाकर 12 सदस्य हैं, जिनमें 4 बच्चे हैं।

ये भी देखें- 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें