छत्तीसगढ़: दंतेवाड़ा में खूब दिख रहा है लोन वर्राटू अभियान का असर, 7 लाख के इनामी सहित 8 नक्सलियों ने किया सरेंडर

नक्सली (Naxali) भीमा बारसे, सोना ताती, माड़का बारसे और पिट्टे 2019 में बीजेपी विधायक भीमा मंडावी के वाहन को विस्फोट से उड़ाने की घटना में शामिल थे। जिसमें विधायक मंडावी की मौत हो गई थी।

Naxals

सांकेतिक तस्वीर।

छत्तीसगढ़ के घोर नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले में तीन इनामी नक्सलियों (Naxals) समेत 8 ने पुलिस के सामने सरेंडर किया है। दंतेवाड़ा जिले के पुलिस अधिकारियों के अनुसार, जिले में चल रहे लोन वर्राटू (घर वापसी) अभियान से प्रभावित होकर सोमवार को 8 नक्सलियों ने हिंसा का जीवन छोड़कर मुख्यधारा से जुड़ने का फैसला लिया। इन नक्सलियों को 10—10 हजार रुपए प्रोत्साहन राशि के तौर पर प्रशासन द्वारा दिया गया।

छत्तीसगढ़: पुलिस मुखबिरी का आरोप लगा राजनांदगांव में नक्सलियों (Naxals) ने की युवक की हत्या, शव के पास से पर्चा भी बरामद

सरेंडर करने वाले नक्सलियों (Naxals) में मलांगेर एरिया कमेटी का सप्लायर पिट्टे उर्फ भीमा मण्डावी (35),  भैरमगढ़ के एरिया प्लाटून नंबर 13 के सेक्सन सी का कमांडर आयतू भास्कर (25), भैरमगढ़ एरिया कमेटी के चेतना नाट्य मंडली के अध्यक्ष राजू कारम (25), भूमकाल मिलिशिया कमांडर महेश कुमार डोडी (26), भूमकाल मिलिशिया सेक्सन ए का कमांडर लखमा ताती (22), सीएनएम सदस्य भीमा बारसे (28), जनमिलिशिया सदस्य माड़का बारसे (21) और जनमिलिशिया सदस्य सोना ताती (20) शामिल हैं।

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, सरेंडर करने वाले नक्सलियों (Naxals) में आयतू भास्कर पर प्रशासन ने 3 लाख रुपए और राजू कारम और महेश कुमार डोडी पर 1-1 लाख रुपए का इनाम रखा है। इन सभी के खिलाफ पुलिस टीम पर हमला करने, ग्रामीणों की हत्या करने, वाहनों में आगजनी करने और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने समेत कई आपराधिक मामले दर्ज हैं।

पुलिस अधिकारियों के अनुसार, नक्सली भीमा बारसे, सोना ताती, माड़का बारसे और पिट्टे 2019 में बीजेपी विधायक भीमा मंडावी के वाहन को विस्फोट से उड़ाने की घटना में शामिल थे। जिसमें विधायक मंडावी की मौत हो गई थी।

अधिकारियों ने आगे बताया कि दंतेवाड़ा जिले के कई गांवों के लोग जो प्रतिबंधित नक्सली संगठन में सक्रिय हैं, उन्हें सरेंडर कर सम्मान पूर्वक जीवन यापन करने लिए लोन वर्राटू अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत क्षेत्र के नक्सलियों (Naxals) का नाम थाना, शिविरों और ग्राम पंचायतों में चिपका कर, उनसे घर वापस लौटने की अपील की जा रही है।

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, पिछले सात महीने में लोन वर्राटू अभियान से प्रभावित होकर 61 इनामी नक्सली समेत 226 नक्सलियों (Naxals) ने सरेंडर किया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें