चादर से मुंह ढंक एसपी ऑफिस पहुंची नरसंहार की आरोपी महिला नक्सली, बोली- सरेंडर करना है

बिहार के मुंगेर में हुए बहुचर्चित करेली नरसंहार की नामजद आरोपी महिला नक्सली (Naxali) ने एसपी लिपि सिंह के कार्यालय पहुंच कर 27 जनवरी को आत्मसमर्पण कर दिया। आत्मसमर्पण करने वाली नक्सली की पहचान मीणा देवी उर्फ मैनी देवी के रूप में हुई। वह लड़ैयाटांड थाना क्षेत्र के मथुरा गांव की रहने वाली है।

Naxali
करेली नरसंहार की नामजद आरोपित महिला नक्सली ने किया सरेंडर।

नक्सली (Naxali) मैनी देवी धरहरा थाना में दर्ज कांड संख्या 74/11 की नामजद आरोपी है। उसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस सालों से प्रयास कर रही थी। जानकारी के मुताबिक, विधि व्यवस्था की बैठक कर 27 जनवरी को शाम लगभग 3:30 बजे एसपी लिपि सिंह अपने कार्यालय पहुंची। तभी एक साधरण सी दिखने वाली महिला चादर से मुंह ढंक कर उनके सामने पहुंची और अपना नाम मीणा देवी उर्फ मैनी देवी बताया। उसने बताया कि वह करैली हमले में नामजद है और वह उनके समक्ष आत्मसर्मपण करने आई है।

इसके बाद एसपी ने तत्काल धरहरा थानाध्यक्ष सर्वजीत कुमार को कार्यालय बुलाया। इसके बाद मैनी देवी को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया। बता दें कि साल 2011 में नक्सलियों (Naxali) ने करेली गांव पर हमला बोल कर छह लोगों की हत्या कर दी थी। इस घटना को लेकर करेली निवासी विनोदी राय के बयान पर धरहरा थाना में कांड संख्या 74/11 दर्ज किया गया था। जिसमें 22 लोगों को नामजद आरोपी बनाया गया था। जिसमें से 18 लोगों को जेल भेजा जा चुका है। जिसमें कईयों ने पुलिस अथवा न्यायालय के समक्ष आत्मसर्मपण किया था।

18 जुलाई, 2018 को भी इस कांड के नामजद आरोपित सह हार्डकोर नक्सली (Naxali) मनोज साह ने एसपी कार्यालय पहुंच कर एसपी गौरव मंगला के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया था। एसपी लिपि सिंह के मुताबिक, नियमानुसार आत्मसमर्पण करने वाले नक्सली को पुनर्वास के लिए गृह मंत्रालय के प्रावधान के अनुसार लाभ दिया जाएगा। उन्होंने इस कांड के फरार अभियुक्तों से जहां आत्मसर्मपण करने की अपील की। वहीं, नक्सलियों से समाज के मुख्यधारा से जुड़ने का भी अपील की।

पढ़ें: नक्सलवाद-आतंकवाद से संघर्ष के दौरान शहीद जवानों के बच्चों को CBSE परीक्षा में ढ़ील

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here