झारखंड: नक्सल प्रभावित इलाके में CRPF ने लगाया मेडिकल कैम्प, लोगों में बांटे जरूरत के सामान

झारखंड के गिरिडीह जिले के अति नक्सलवाद प्रभावित पारसनाथ पहाड़ के तलहटी में बसे सुरही गांव में सीआरपीएफ (CRPF) के सिविक एक्शन प्रोग्राम (Civic Action Program) के तहत मेडिकल कैम्प का आयोजन किया गया।

CRPF

झारखंड के गिरिडीह जिले के अति नक्सलवाद प्रभावित पारसनाथ पहाड़ के तलहटी में बसे सुरही गांव में सीआरपीएफ (CRPF) के सिविक एक्शन प्रोग्राम (Civic Action Program) के तहत मेडिकल कैम्प का आयोजन किया गया।

झारखंड के गिरिडीह जिले के अति नक्सलवाद प्रभावित पारसनाथ पहाड़ के तलहटी में बसे सुरही गांव में सीआरपीएफ (CRPF) के सिविक एक्शन प्रोग्राम (Civic Action Program) के तहत मेडिकल कैम्प का आयोजन किया गया। यह कैंप सीआरपीएफ 154वीं बटालियन के कमांडेंड आलोक वीर यादव के नेतृत्व में आयोजित हुआ।

CRPF
कैम्प में ग्रामीणों का हेल्थ चेकअप किया गया।

गांववालों के बीच बांटे जरूरत के सामान: बतौर मुख्य अतिथि जिले के एस पी सुरेन्द्र कुमार झा और सीआरपीएफ (CRPF) 154वीं बटालियन आलोक वीर यादव के हाथों कैम्प का उद्घाटन हुआ। इस दौरान भारी संख्या में ग्रामीण महिलाओं और पुरुषों ने चेकअप करवाया। इसके अलवा कंबल सहित पानी रखने का ड्रम एवं अन्य जरूरतों के सामान भी गांववालों के बीच बांटे गए।

कार्यक्रम के एसपी सुरेंद्र झा ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि इस प्रकार के कार्यक्रम से जनता और पुलिस के बीच में संबंध मधुर बनता है एवं ग्रामीण जनता को करीब से देखने का और समझने का मौका मिलता है। सीआरपीएफ द्वारा आयोजित इस प्रकार के कार्यक्रम बहुत ही सराहनीय है।

लाल आतंक के साए में दशकों रहा यह गांव, पुलिस कैंप खुलने से बह रही विकास की बयार

नक्सलियों से की आत्मसमर्पण की अपील: एसपी ने अपने संबोधन में नक्सलियों से मुख्यधारा में आने की अपील करते हुए कहा कि नक्सलवाद के तहत खून खराबा करना मानव समाज के लिए क्षति है। जो भी नक्सली आत्मसमर्पण करना चाहते हैं उनका हृदय से स्वागत है। सरकार की सरेंडर नीति बहुत ही कारगर और सराहनीय है। नक्सली मुख्यधारा में आकर शांति से अपना जीवन व्यतीत करें तथा परिवार में समृद्धि लाने में योगदान करें। उन्होंने कहा कि नक्सलवाद किसी भी समस्या का हल नहीं है। किसी भी समस्या का निदान शांतिपूर्वक संवैधानिक रूप से ही किया जा सकता है।

युवा काबिलियत रखते हैं तो रोजगार के लिए नजदीकी थाने अथवा सीआरपीएफ कैंप से करें संपर्क:  उन्होंने आगे कहा कि सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों के युवाओं को उसके प्रतिभा के अनुसार रोजगार मुहैया करवाना और रोजगार लायक बनाना भी हमारा धर्म और कर्तव्य है। अगर कोई युवा काबिलियत रखते हैं तो नजदीकी थाने अथवा सीआरपीएफ कैंप में आकर संपर्क करें। जिससे पुलिस उन युवाओं और युवतियों के लिए उनके योग्यता अनुसार रोजगार मुहैया कराने के क्षेत्र में कारगर कदम उठाया जा सके।

गरीब परिवारों को समर्पित सिविक एक्शन प्रोग्राम: वहीं, सीआरपीएफ (CRPF) कमांडेंट आलोक वीर यादव ने कहा कि हमारा सिविक एक्शन प्लान केवल गरीब, वंचित एवं शोषित परिवारों को समर्पित है। सीआरपीएफ (CRPF) हमेशा शोषित और वंचित नागरिकों के लिए इस प्रकार के कार्यक्रम का आयोजन करती है, ताकि उनके जीवन को सुखी बनाने में हम भी कुछ योगदान कर सकें।

यह भी पढ़ें