Jharkhand: कोरोना काल में नहीं रूकेगी बच्चों की पढ़ाई, हजारीबाग के स्कूल में शिक्षक ने की अनोखी पहल

झारखंड (Jharkhand) में कोरोना वायरस (Coronavirus) की महामारी की वजह से हुए लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान बंद स्कूल में बच्चों की पढ़ाई बाधित न हो, इसके लिए राज्य सरकार के साथ-साथ शिक्षक भी अपने स्तर से प्रयास कर रहे हैं।

Jharkhand

सांकेतिक तस्वीर।

झारखंड (Jharkhand) में कोरोना वायरस (Coronavirus) की महामारी की वजह से हुए लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान बंद स्कूल में बच्चों की पढ़ाई बाधित न हो, इसके लिए राज्य सरकार के साथ-साथ शिक्षक भी अपने स्तर से प्रयास कर रहे हैं। हजारीबाग (Hazaribag) जिले के विष्णुगढ़ प्रखंड के एक स्कूल में कोरोना काल में लॉकडाउन के दौरान बच्चों की पढ़ाई न रूके इसके लिए एक नई पहल की गई है। जिले के विष्णुगढ़ प्रखंड के उत्क्रमित उच्च विद्यालय चौथा, विष्णुगढ़ के विज्ञान के शिक्षक सतीश कुमार ऐसे ही शिक्षकों में हैं।

सतीश कुमार गिरिडीह जिले के डुमरी के रहने वाले हैं। वे विष्णुगढ़ प्रखंड के चौथा उत्क्रमित मध्य विद्यालय में बतौर सरकारी शिक्षक कार्यरत हैं और वे विज्ञान पढ़ाते है। सरकार के ऑनलाइन कार्यक्रम डीजी साथ के अलावा अपने स्तर से पाठ्यक्रम आधरित वीडियो बना कर लॉकडाउन में बच्चों की पढ़ाई सुचारू रूप से जारी रखने के लिए वे प्रयासरत हैं।

पाक के सहारे भारत में हवाई हमले की फिराक में ड्रैगन, पीओके में आतंकियों को खतरनाक ट्रेनिंग दे रहे हैं चीन सेना के अधिकारी

सतीश कुमार कक्षा 6 से 10 तक के बच्चों के लिए विज्ञान विषय का वीडियो बना कर यू-ट्यूब में अपलोड कर रहें हैं और स्कूल के बच्चे उस वीडियो से अपनी पढ़ाई कर रहें हैं। उनके वीडियो की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यह पूरी तरह बच्चों के पाठ्यक्रम पर आधारित है। वीडियो में पाठ के सभी बिंदुओं को आसान भाषा में समझाया गया है। पढ़ाई का यह तरीका बच्चों को काफी पसंद आ रहा है। स्कूल के व्हाट्सएप ग्रुप में अपना वीडियो को शेयर करने के बाद कुमार फोन पर बच्चों के साथ संवाद भी करते हैं और उनकी परेशानियों को हल करने का प्रयास करते हैं।

इतना ही नहीं, हर वीडियो के साथ वे होम वर्क भी देते हैं। उन्होंने बच्चों से कहा है कि लॉक डाउन खत्म होने के बाद स्कूल खुलने पर बच्चों के होम वर्क को चेक किया जाएगा। इसलिए बच्चे वीडियो देखने और उसमें से महत्वपूर्ण तथ्यों को नोट करने के बाद संबंधित पाठ का प्रश्नोत्तरी भी पूरा कर रहे हैं।

बस्तर का नक्सल प्रभावित भाटपाल पंचायत बना शिक्षा की मिसाल, कोरोना काल में घर बैठे लाउडस्पीकर से पढ़ाई कर रहे बच्चे

कुमार का वीडियो कन्टेंट विष्णुगढ़ प्रखंड के कुछ स्कूलों के साथ-साथ गिरिडीह और धनबाद जिले के कई स्कूलों के व्हाट्सएप ग्रुप में शिक्षकों द्वारा शेयर किया जा रहा है। इन स्कूलों के बच्चे भी कुमार के वीडियो कन्टेंट को पसन्द कर रहें हैं। सतीश कुमार हर दिन राज्य से प्राप्त स्टडी मटेरियल को सबसे अपने स्कूल के ग्रुप में शेयर करते है।

इसके अलावा, वे प्रतिदिन दस-बारह बच्चों और उनके अभिभावकों से फोन पर बात कर पढ़ाई के बारे में जानकारी लेते हैं। राज्य स्तर पर आयोजित होने वाली साप्ताहिक क्विज के लिए फोन पर बच्चों से बातचीत कर उन्हें प्रोत्साहित करते हैं। पढ़ाई से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या के लिए बच्चे अपने इस शिक्षक से फोन या व्हाट्सएप पर बेझिझक सम्पर्क करते हैं।

स्कूल के बच्चों का कहना है कि सतीश सर का वीडियो को कॉन्टेंट काफी उपयोगी रहता है। पढ़ाई से संबंधित किसी भी प्रकार की कठिनाई के हल के लिए हमलोग उनसे फोन या व्हाट्सएप पर सम्पर्क करते हैं। वे बच्चों को हमेशा प्रोत्साहित करते हैं। वे हमेशा बच्चों की पढ़ाई के लिए सजग रहते हैं। इस लॉकडाउन (Lockdown) में भी उनसे हमलोगों को हमेशा मार्गदर्शन मिलता रहता है। शिक्षक सतीश कुमार का कहना है कि स्कूल के बच्चे ही हमारी पहचान हैं। मैं निष्ठापूर्वक अपने दायित्वों को निर्वाह करने का प्रयास करता हूं।

यह भी पढ़ें