छत्तीसगढ़: शहरी लोगों को मिला वन भूमि का अधिकार, जगदलपुर से हुई शुरुआत

मुख्यमंत्री बघेल की विशेष पहल पर वन अधिकार अधिनियम के तहत शहरी क्षेत्रों के निवासियों को भी वन अधिकार पत्रक देने की शुरुआत की गई है।

CM Bhupesh Baghel

सीएम भूपेश बघेल

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel) की विशेष पहल पर वन अधिकार अधिनियम के तहत शहरी क्षेत्रों के निवासियों को भी वन अधिकार पत्रक देने की शुरुआत की गई है। जगदलपुर में वन अधिकार पत्र के लिए 1777 लोगों ने आवेदन किया है। जिन पर नियमानुसार कार्यवाही की जा रही है।

छत्तीसगढ़ का जगदलपुर देश का पहला नगर निगम बन गया है, जहां शहरी लोगों को वन भूमि का अधिकार मिल गया है। विश्व आदिवासी दिवस के मौके पर एक आयोजित कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel) ने अपने निवास कार्यालय से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए जगदलपुर के चार लोगों को वन भूमि का अधिकार पत्र प्रदान कर इसकी शुरुआत की।

मुख्यमंत्री बघेल की विशेष पहल पर वन अधिकार अधिनियम के तहत शहरी क्षेत्रों के निवासियों को भी वन अधिकार पत्रक देने की शुरुआत की गई है। जगदलपुर में वन अधिकार पत्र के लिए 1777 लोगों ने आवेदन किया है। जिन पर नियमानुसार कार्यवाही की जा रही है।

ये भी पढ़ें- देश सेवा का हौसला रखने वालों के लिए Indian Army में निकली वैकेंसी, ऐसे करें Apply

इस अवसर पर मुख्यमंत्री बघेल ने विधायक चित्रकोट राजमन बेंजाम की मांग पर कोया-कुटमा समाज के लिए पांच एकड़ जमीन और 6 करोड़ रुपए की स्वीकृति प्रदान की है।

मुख्यमंत्री बघेल ने कोया-कुटमा समाज के लिए सामाजिक सामुदायिक भवन निर्माण के साथ ही बस्तर की विश्व प्रसिद्ध सांस्कृतिक रीति-रिवाजों, पारम्परिक नृत्यों, शिल्प कलाओं, ऐतिहासिक धरोहरों एवं पुरातात्विक विरासतों को सहेजने के लिए संग्रहालय की भी मांग को स्वीकृत दी है।

ये भी देखें- 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें