Chhattisgarh: कोरोना काल में नहीं रुकेगी बच्चों की पढ़ाई, सरकार ने खोजा ये नया तरीका

छत्तीसगढ़ सरकार (Chhattisgarh Governmnent) ने छात्रों की पढाई का नया तरीका ढूंढ निकाला है। सप्ताह भर में इस योजना पर अमल करने का आदेश भी दे दिया गया है। सरकार को विश्वास है कि इससे छात्र कोरोना (COVID-19) के संक्रमण से दूर भी रहेंगे और पढ़ाई भी कर सकेंगे।

Chhattisgarh

फाइल फोटो।

Chhattisgarh: कोरोना (Coronavirus) के कहर से पूरा देश जूझ रहा है। हर दिन कोरोना के नए मामले आ रहे हैं। देश के कई हिस्सों में एहतियातन लॉकडाउन (Lockdown) लगाया गया है। स्कूल-कॉलेज भी बंद कर दिए गए हैं। हालांकि स्कूलों के बंद होने से बच्चों की पढ़ाई पर भी असर पड़ रहे है। लेकिन सरकारें और प्रशासन इसके लिए ऑनलाइन क्लासेज जैसे नए तरीकों को लागू कर रहे हैं, जिससे पढ़ाई पर कोई असर न पड़े।

इस बीच छत्तीसगढ़ सरकार (Chhattisgarh Governmnent) ने छात्रों की पढाई का नया तरीका ढूंढ निकाला है। सप्ताह भर में इस योजना पर अमल करने का आदेश भी दे दिया गया है। सरकार को विश्वास है कि इससे छात्र कोरोना (COVID-19) के संक्रमण से दूर भी रहेंगे और पढ़ाई भी कर सकेंगे। कोरोना काल में पढ़ाई का यह तरीका काफी कारगर साबित हो सकता है।

चीन और पाकिस्तान के लड़ाकू विमानों की तुलना में कितना बेहतर है भारत का राफेल?

दरअसल, छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में सरकार ने प्रदेश की ग्राम पंचायतों में अब लाउडस्पीकर (Loudspeaker) से बच्चों को पढ़ाने की योजना बनाई है। इसके लिए जिलों की हर पंचायत में कम से कम एक स्कूल में इस योजना को एक सप्ताह के भीतर लागू करने का आदेश दिया गया है। पढ़ाई के लिए डीजे और लाउडस्पीकर वालों से मदद ली जाएगी। जानकारी के अनुसार, बस्तर जिले की 56 पंचायतों में लाउडस्पीकर से पढ़ाई शुरू भी हो चुकी है।

इस योजना के तहत बच्चे अपने-अपने घरों में या छोटे-छोटे समूहों में बैठेंगे। शिक्षक हर दिन राज्यगीत के साथ पढ़ाना शुरू करेंगे। बच्चे शिक्षकों द्वारा लाउडस्पीकर के जरिए दी जा रही जानकारी को सुनकर नोट करेंगे। राज्य (Chhattisgarh) के शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने 25 जुलाई को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर बस्तर जिले में इस योजना को शुरू करने को लेकर अधिकारियों से रिपोर्ट भी मांगी थी। शिक्षा मंत्री का मानना है कि यह ऑनलाइन पढ़ाई की वैकल्पिक व्यवस्था है।