मोदी–ट्रंप की केमिस्ट्री ने दुनिया को दिया संदेश, दोनों की वैश्विक लीडर की छवि पर मुहर

Narendra Modi

ट्रंप-मोदी की दोस्ती को दुनिया करेगी सलाम, साथ मिलकर देंगे दुनिया को नई दिशा

अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडि़यम में नमस्ते ट्रंप कार्यक्रम में अमरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड (Donald Trump) ट्रंप ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) व भारत की जिस अंदाज में तारीफ की‚ वह न केवल दोनों देशों के बीच बदलते रिश्तों को बयां करने के लिए काफी है‚ बल्कि दोनों नेताओं की केमिस्ट्री ने पूरी दुनिया को यह संदेश देने का काम किया है कि दोनों देशों के संबंध अब उस स्तर तक पहुंच चुके हैं‚ जहां दोनों एक दूसरे के साथ मिलकर दुनिया को दिशा देने का काम करेंगे।

Narendra Modi
अहमदाबाद का मोटेरा स्टेडियम ट्रंप-मोदी के इस ऐतिहासिक मिलन का साक्षी बना।

ट्रंप (Donald Trump) ने जहां मोदी (Narendra Modi) के सुधार कार्यक्रमों की तारीफ कर उन्हें सफल नेता बताकर उनकी ताकतवर वैश्विक लीड़र की छवि पर मुहर लगाने का काम किया‚ वहीं दुनिया को यह बताने का भी काम किया कि अमेरिका भारत के साथ निष्ठावान दोस्त की भूमिका निभाने को तैयार है।

पढ़ें: ‘नमस्ते ट्रंप’ के बाद पत्नी के साथ ताज का दीदार 

मतलब साफ है कि अब भारत व अमेरिका के संबंध एक दूसरे के बाजार से कहीं ऊपर के हैं। भारत को अत्याधुनिक हथियार देने की बात कहकर ट्रंप ने पड़ोसी देशों को यह साफ कर दिया कि दक्षिण एशिया में अमेरिका की प्राथमिकता अब बदल रही है और भारत अब उसके न केवल सबसे करीब है‚ बल्कि सामरिक तौर पर भी अमेरिका इस क्षेत्र में भारत का सबसे बड़ा सहयोगी है।

जानकारों का मानना है कि ट्रंप (Donald Trump) की प्राथमिकता में दक्षिण एशिया में चीन के दबदबे को काम करने के लिए भारत को मजबूत करने पर है जोर। इतना ही नहीं इस क्षेत्र में आतंकवाद पर काबू पाने के लिए भी अमेरिका (India) भारत को एक बड़े सहयोगी के रूप में देख रहा है।

उधर‚ प्रधानमंत्री मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप (Donald Trump) की यात्रा को भारत– अमेरिका के संबंधों का नया अध्याय बताकर साफ कर दिया कि यह अध्याय‚ अमेरिका और भारत के लोगों की प्रगति और समृद्धि का एक नया दस्तावेज बनेगा।

अमेरिकी राष्ट्रपति के भारत (India) से बड़़ी भूमिका निभाने के आह्वान के जवाब में प्रधानमंत्री मोदी (Narendra Modi) ने उन्हें आश्वस्त किया कि भारत 21वीं सदी में अमेरिका के साथ मिलकर विश्व की दिशा तय करने के लिए तैयार है।

यह भी पढ़ें