Tiddi Attack: भारत में टिड्डियों का हमला, फसलों को हो रहा भारी नुकसान; कई राज्यों में अलर्ट जारी

Tiddi Attack, टिड्डी(Locust attack) दल फसलों को नुकसान

Tiddi Dal Attack in India: टिड्डियां ईरान के रास्ते पाकिस्तान से होते हुए भारत पहुंची हैं।

Tiddi Attack: भारत के लगभग आधा दर्जन राज्यों में पाकिस्तान से आई टिड्डियों (Locust) ने हमला कर दिया है। टिड्डियों के इस हमले से इन राज्यों की फसलों को भारी नुकसान पहुंच रहा है। पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान से आई टिड्डियों की फौज का देश के राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात, उत्तर प्रदेश और हरियाणा में बड़े पैमाने पर आतंक फैला है। अब ये धीरे-धीरे अन्य राज्यों की तरफ भी बढ़ रही हैं।

26 साल बाद टिड्डियों का हमला: देश में 26 साल बाद टिड्डी दलों के इस भयानक हमले से करीब 90 हजार हेक्टेयर फसलें उजड़ गई हैं। यह आकलन अभी राजस्थान के 20 जिलों के आधार पर ही जारी किया गया है। ऐसे में टिड्डी दलों की चपेट में आने वाली फसलों और हरियाली का आंकड़ा और बढ़ना तय है। राजस्थान के अलावा मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में टिड्डी दलों के हमले हो रहे हैं। दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, तेलंगाना, ओडिशा और कर्नाटक ने 28 मई को अपने यहां अलर्ट जारी कर दिए।

बड़ी सफलता! सरेंडर करने वाले नक्सली ने नक्शा बनाकर बताया- कहां छिपाए हैं IED

ईरान के रास्ते पाकिस्तान से होते हुए भारत पहुंची: देश में अब तक सबसे बड़ा टिड्डियों का हमला (Tiddi Attack) साल 1993 में हुआ था। बाद के सालों में भी बड़ी संख्या में टिड्डियों (Locust) का दल आता रहा है, लेकिन सरकार की मुस्तैदी की वजह से नुकसान ज्यादा नहीं हुआ। इस बार ये टिड्डियां ईरान के रास्ते पाकिस्तान से होते हुए भारत पहुंची हैं। सबसे पहले इन्होंने पंजाब और राजस्थान में फसलों को नुकसान पहुंचाया और अब यह दल झांसी पहुंच गया है।

काबू पाने के लिए हेलीकॉप्टर से हो रहा कीटनाशकों का छिड़काव: केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री कैलाश चौधरी का कहना है कि टिड्डी के प्रकोप पर काबू पाने के लिए सरकार की ओर से भरपूर कोशिश की जा रही है। इनको मारने के लिए प्रभावित राज्यों के जिलों में ड्रोन और हेलीकॉप्टर से कीटनाशकों का छिड़काव किया जा रहा है और लगातार उस पर नजर रखी जा रही है।

सुकमा: घोर नक्सल प्रभावित गांवों में पहुंची रोशनी, रोशन हुए हजारों घर

संयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: लेकिन सबसे खतरनाक चेतावनी संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) ने दी है। एफएओ ने टिड्डी दलों के बिहार, ओडिशा तक पहुंचने की चेतावनी देने के साथ ही मानसूनी हवाओं के साथ जुलाई में दोबारा उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान लौटने की चेतावनी दी है।

दिल्ली सरकार ने जारी की एडवाइजरी: दिल्ली सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी में टिड्डी दलों (Locust) के संभावित हमले (Tiddi Attack) को देखते हुए एक एडवाइजरी जारी की है। दिल्ली के मौजूदा हालात और टिड्डियों के हमले से पहले तैयारियों का जायजा लेने के लिए दिल्ली सरकार में मंत्री गोपाल राय ने आपात बैठक बुलाई। दिल्ली सरकार में लेबर मिनिस्टर गोपाल राय का कहना है कि किसानों को जागरुक करने के लिए कार्यक्रम चलाए जाएंगे। साथ ही दिल्ली सरकार ने कीटनाशक दवाईयों के छिड़काव और उसकी मात्रा को लेकर एडवाइजरी जारी की है।

कोलकाता पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने जमात-उल-मुजाहिद्दीन के वांटेड आतंकी को दबोचा

यूपी में सतर्कता बरतने के निर्देश: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टिड्डी दल पर नियंत्रण करने के लिए सीमावर्ती जनपदों में विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं। इसमें झांसी, ललितपुर, आगरा, मथुरा, शामली, मुजफ्फरनगर, बागपत, हमीरपुर, महोबा, बांदा, चित्रकूट, जालौन, इटावा, कानपुर देहात और अन्य जनपद शामिल हैं।

हिमाचल प्रदेश में भी अलर्ट जारी: हिमाचल प्रदेश में भी टिड्डियों के हमले (Tiddi Attack) को लेकर अलर्ट जारी किया गया है। कृषि विभाग के निदेशक डॉ. आरके कौंडल ने यहां बताया कि बड़े पैमाने पर रेगिस्तानी टिड्डों के संभावित आक्रमण के कारण प्रदेश में अलर्ट जारी किया गया है। उन्होंने कहा कि पड़ोसी राज्यों से इन टिड्डियों (Locust) द्वारा फसलों को नष्ट करने की सूचना प्राप्त हुई है और प्रदेश में भी इनके आक्रमण की आशंका है, जिसके कारण प्रदेश में अलर्ट जारी किया गया है।

यह भी पढ़ें