पाकिस्तान को लगा झटका, कश्मीर मुद्दे पर OIC की बैठक बुलाने के लिए तैयार नहीं सऊदी अरब

पाकिस्तान को कश्मीर मुद्दे पर अपने सबसे करीबी देश सऊदी अरब का भी साथ नहीं मिल रहा है। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 (Article 370) हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान (Pakistan) की बौखलाहट खत्म होने का नाम नहीं ले रही है।

OIC

सऊदी अरब भी कश्मीर मुद्दे पर इस्लामिक सहयोग संगठन (OIC) की विदेश मंत्रियों के स्तर की बैठक बुलाने के लिए तैयार नहीं है।

पाकिस्तान को कश्मीर मुद्दे पर अपने सबसे करीबी देश सऊदी अरब का भी साथ नहीं मिल रहा है। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 (Article 370) हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान (Pakistan) की बौखलाहट खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। हर मंच पर पाकिस्तान कश्मीर का मुद्दा उठा रहा है लेकिन हर जगह उसे मायूसी ही हाथ आ रही है। अब सऊदी अरब भी कश्मीर मुद्दे पर इस्लामिक सहयोग संगठन (OIC) की विदेश मंत्रियों के स्तर की बैठक बुलाने के लिए तैयार नहीं है।

OIC
फाइल फोटो।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) को लग रहा था कि मुस्लिम देश उनके साथ खड़े होंगे। लेकिन अब मुस्लिम देश भी कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान को समर्थन नहीं दे रहे हैं। सऊदी अरब ने भी इस मुद्दे पर पाकिस्तान को ठेंगा दिखा दिया है। पाकिस्तान के प्रमुख अखबार डॉन ने कूटनीतिक सूत्रों के हवाले से लिखा है कि सऊदी अरब कश्मीर मुद्दे पर इस्लामिक सहयोग संगठन (OIC) की विदेश मंत्रियों के स्तर की बैठक बुलाने के लिए तैयार नहीं है।

बता दें कि 9 फरवरी को OIC के वरिष्ठ अधिकारियों के स्तर की बैठक होगी। OIC मुस्लिम देशों का संगठन है। चार महादेशों में 57 देश इसके सदस्य हैं। पाकिस्तान चाहता है कि OIC के विदेश मंत्रियों के बैठक में कश्मीर का मुद्दा उठाया जाए। लेकिन अखबार ने सूत्रों के हवाले से दावा किया है कि सऊदी अरब इस बैठक में कश्मीर के मुद्दे पर चर्चा करने के लिए तैयार नहीं है। पाकिस्तान कश्मीर को लेकर तुरंत बैठक बुलाना चाहता था। बता दें कि पिछले दिनों मलेशिया दौरे पर इमरान खान ने थिंक-टैंक पर बोलते हुए कश्मीर पर ओआईसी की चुप्पी पर निराशा व्यक्त की थी।

इमरान खान ने कहा, ‘हमारी कोई आवाज नहीं है। हमलोग एकजुट नहीं हैं। कश्मीर के मुद्दे पर भी OIC के सदस्य देश एक साथ नहीं आते हैं।’ पाकिस्तान सऊदी की अगुवाई OIC पर कश्मीर मुद्दे पर बैठक बुलाने के लिए लगातार दबाव बना रहा है। लेकिन सऊदी उसकी मांगों को अनसुना कर रहा है। गौरतलब है कि ओआईसी में किसी भी कदम के लिए सऊदी का समर्थन बेहद जरूरी है क्योंकि इस संगठन में सऊदी और उसके सहयोगी देशों का ही दबदबा है। लेकिन, सऊदी अरब भारत से आर्थिक और रणनीतिक साझेदारी को देखते हुए कश्मीर पर ओआईसी की बैठक बुलाने से बचना चाहता है।

पढ़ें: CRPF की लेडी सिंघम संतो देवी, 10 मिनट में इनकी टीम ने तीन आतंकियों को कर दिया ढेर

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें