Republic Day 2020: बॉलीवुड की ये फिल्में जगाती हैं देशभक्ति का जज्बा…देखें पूरी लिस्ट

देश अपना 71 गणतंत्र दिवस (Republic Day) मनाने जा रहा है। देशभर में गणतंत्र दिवस की तैयारियां जोरों पर चल रही हैं। हर किसी के मन में देश के प्रति प्रेम की भावना हिलोरें मार रही है। इस माहौल में सब देशभक्ति से ओत-प्रोत हो जाते हैं। बॉलीवुड (Bollywood) भी इससे अछूता नहीं रहता है। देशभक्ति (Patriotism) पर आधारित फिल्मों को लेकर हिंदी सिनेमा में हमेशा से क्रेज रहा है।

Republic Day
देशभक्ति पर आधारित फिल्मों को लेकर हिंदी सिनेमा में हमेशा से क्रेज रहा है।

Republic Day 2020: देश अपना 71 गणतंत्र दिवस (Republic Day) मनाने जा रहा है। देशभर में गणतंत्र दिवस की तैयारियां जोरों पर चल रही हैं। हर किसी के मन में देश के प्रति प्रेम की भावना हिलोरें मार रही है। इस माहौल में सब देशभक्ति से ओत-प्रोत हो जाते हैं। बॉलीवुड (Bollywood) भी इससे अछूता नहीं रहता है। देशभक्ति पर आधारित फिल्मों को लेकर हिंदी सिनेमा में हमेशा से क्रेज रहा है। दर्शकों को भी ऐसी फिल्में पसंद आती रही हैं। इन फिल्मों को देखते वक्त देशभक्ति की भावना से रोंगटे खड़े हो जाते हैं। देशभक्ति से ओत-प्रोत इन फिल्मों से आपको देश और देश की आजादी के बारे में बहुत कुछ जानने को मिलता है। गणतंत्र दिवस (Republic Day) के मौके पर हम आपको देशभक्ति पर आधारित ऐसी ही कुछ फिल्मों के बारे में बता रहे हैं-

झांसी की रानी (1953)

साल 1953 में निर्देशक व अभिनेता सोहराब मोदी ने झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की कहानी लोगों के सामने पेश की। उसके बाद कंगना रनौट ने फिल्म ‘मणिकर्णिका’ में रानी लक्ष्मीबाई का किरदार निभाया। यह फिल्म पिछले साल 25 जनवरी को आई थी।

हकीकत (1964)

चेतन आनंद द्वारा निर्देशित इस फिल्म में बलराज साहनी, धर्मेन्द्र मुख्य भूमिका में नजर आए थे। यह फिल्म साल 1962 में हुए भारत-चीन युद्ध पर आधारित है। फिल्म को भारत में बनी सबसे बेहतरीन युद्ध फिल्म भी माना जाता है। साल 1965 में इसे नेशनल अवॉर्ड से भी नवाजा जा चुका है। इस फिल्म का गीत ‘कर चले हम फिदा…’ अमर है।

शहीद (1965)

मनोज कुमार अभिनीत यह फिल्म शहीद-ए-आजम भगतसिंह की जीवनी पर आधारित है। साल 1965 में भारत-पाकिस्तान युद्ध के साए में आई इस फिल्म को सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म के नेशनल अवॉर्ड से भी नवाजा गया था। यह भगतसिंह पर बनने वाली पहली फीचर फिल्म थी। इसके बाद भगतसिंह पर और भी कई फिल्में बनीं जिसमें अजय देवगन की साल 2002 में आई ‘द लीजेंड ऑफ भगतसिंह’ उल्लेखनीय है।

उपकार (1967)

फिल्म ‘उपकार’ 1967 में आई है, जिसका निर्देशन मनोज कुमार ने किया था। इस फिल्म को 6 फिल्मफेयर पुरस्कारों से सम्मानित किया गया था। इस फिल्म में मनोज कुमार ने एक सैनिक की भूमिका निभाई थी। फिल्म में मनोज कुमार के साथ आशा पारेख मुख्य भूमिका में थीं। इस फिल्म में कामिनी कौशल, प्रेम चोपड़ा, कन्हैया लाल और प्राण भी नजर आए थे। महेन्द्र कपूर की आवाज में इस फिल्म का गीत ‘मेरे देश की धरती…’ आज भी लोगों के दिलों में देशभक्ति की भावना भर देता है।

पूरब और पश्चिम (1970)

‘भारत कुमार’ कहे जाने वाले मनोज कुमार ने अपने फिल्मी करियर में कई देशभक्ति फिल्में की हैं, जिनमें ‘पूरब और पश्चिम’ भी शामिल है। दरअसल, फिल्म ‘उपकार’ से ही मनोज कुमार की छवि भारत कुमार की बनी थी। मनोज कुमार की फिल्म ‘पूरब और पश्चिम’ भी खूब चर्चा में रही। यह फिल्म 1970 में रिलीज हुई थी। फिल्म में मनोज कुमार स्वतंत्रता सेनानी के बेटे होते हैं। वो आगे की पढ़ाई के लिए विदेश जाते हैं। फिल्म में दिखाया गया है विदेश में रहने के बावजूद मनोज कुमार भारतीय सभ्यता को नहीं भूलते। इसमें मनोज कुमार के साथ सायरा बानो मुख्य भूमिका में हैं। इसके अलावा विनोद खन्ना, अशोक कुमार, ओमप्रकाश, प्रेमचोपड़ा आदि भी फिल्म में नजर आए थे।

क्रांति (1981)

मनोज कुमार, हेमा मालिनी, दिलीप कुमार, शशि कपूर और शत्रुघ्न सिन्हा की मुख्य भूमिका वाली फिल्म क्रांति सुपरहिट रही थी। फिल्म के गाने देशभक्ति की भावना से लबरेज थे। फिल्म की कहानी सलीम-जावेद ने लिखी थी। वहीं मनोज कुमार ने इसे निर्देशित और निर्मित किया था।

 

गांधी (1982)

देश के राष्ट्रपिता कहे जाने वाले बापू के जीवन पर बनी अब तक की सर्वश्रेष्ठ फिल्म है, पर यह बॉलीवुड की फिल्म नहीं है। इसे गांधीजी की महानता का परिणाम भी कह सकते हैं कि विदेशी उनके व्यक्तित्व के ऐसे मुरीद हुए कि फिल्म ही बना दी। हालांकि इस फिल्म के निर्माण में भारतीय सरकार व कलाकारों का भी सहयोग रहा था, लेकिन फिल्म के लेखन व निर्देशन से लेकर मुख्य किरदार निभाने तक का जिम्मा विदेशियों ने निभाया। यह फिल्म कुल 11 श्रेणियों में ऑस्कर पाने के लिए नामांकित हुई थी, जिसमें श्रेष्ठ फिल्म, निर्देशन और अभिनय समेत 8 श्रेणियों में यह ऑस्कर जीतने में कामयाब भी रही। ऑस्कर के अलावा भी फिल्म ने लगभग सभी राष्ट्रीय व अंतराष्ट्रीय अवॉर्ड समारोह में अधिकतर खिताब अपने नाम किए हैं।

सरदार (1993)

यह फिल्म आजादी के बाद अखंड भारत का निर्माण करने वाले सरदार वल्लभ भाई पटेल के जीवन पर आधारित है। इसमें आपको परेश रावल का शानदार अभिनय भी देखने को मिलेगा। फिल्म को आलोचकों के द्वारा काफी सराहा गया था। फिल्म में सरदारजी के द्वारा देश की आजादी से लेकर गांधीजी की मौत के बाद नेहरू के साथ उनके मतभेद तक को काफी अच्छे से दर्शाया गया है।

बॉर्डर (1997)

डायरेक्टर जेपी दत्ता के डायरेक्शन में 1997 में बनी मल्टीस्टारर फिल्म ‘बॉर्डर’ भारत और पाकिस्तान की बीच 1971 में हुए युद्ध पर बनी है। इस फिल्म की कहानी आपको देशभक्ति की तरफ ले जाती है। वहीं, इस फिल्म का गाना ‘संदेशे आते है…’ सुनते ही लोग देशभक्ति की भावना से ओत-प्रोत हो जाते हैं। इस फिल्‍म के गाने, एक-एक सीन्‍स आज भी लोगों की जुबां पर हैं। इस फिल्म में सनी देओल, सुनील शेट्टी और अक्षय खन्ना जैसे ऐक्टर्स ने काम किया था और इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर अच्छा प्रदर्शन किया था। यह फिल्म भारत और पाकिस्तान के बीच साल 1971 में हुए युद्ध पर बनी थी। फिल्म बॉक्स ऑफिस पर हिट रही। तीन नेशनल अवॉर्ड्स जीत चुकी ‘बॉर्डर’ साल 1997 की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म थी।

द लीजेंड ऑफ भगत सिंह (2002)

साल 2002 मे आई फिल्म ‘द लीजेंड ऑफ भगत सिंह’ शहीद भगत सिंह पर बनी सबसे बेहतरीन फिल्म मानी जाती है। यह फिल्म आपके दिल में भगत सिंह के त्याग और बहादुरी को देखकर सम्मान जगा देगी।राजकुमार संतोषी के निर्देशन में बनी इस फिल्म में अजय देवगन लीड रोल में थे। इस फिल्म को साल 2003 का बेस्ट फिल्म का नेशनल अवॉर्ड और फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला था। अजय को इस फिल्म के लिए नेशनल अवॉर्ड से नवाजा गया था। इसी साल भगत सिंह पर बनी तीन फिल्में रिलीज हुई थीं लेकिन ‘द लीजेंड ऑफ भगत सिंह’ को सबसे ज्यादा सराहना मिली थी।

मां तुझे सलाम (2002)

सनी देओल की चर्चित फिल्मों में से एक ‘मां तुझे सलाम’ के डायलॉग आज भी लोगों पर जुबान पर आ जाते हैं। डायरेक्टर टीनू वर्मा की यह फिल्म 2002 में आई थी। सनी देओल ने इस फिल्म में एक मिलिट्री ऑफिसर मेजर प्रताप सिंह का रोल प्ले किया था।

एलओसी: कारगिल (2003)

साल 2003 में आई फिल्म ‘एलओसी: कारगिल’ का निर्देशन जेपी दत्‍ता ने ही किया था। भारत और पाकिस्‍तान के बीच हुए करगिल युद्ध पर बेस्‍ड इस फिल्‍म में संजय दत्‍त, अजय देवगन, सैफ अली खान, सुनील शेट्टी, मनोज बाजपेयी नजर आए थे। फिल्म कारगिल में युद्ध से प्रेरित थी। इस फिल्म को दर्शकों ने इसे भी काफी सराहा था।

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस : द फॉरगॉटन हीरो (2004)

आजाद हिन्द फौज के जरिए अंग्रेजों के पसीने छुड़ा देने वाले नेताजी के ऊपर साल 2004 में यह फिल्म श्याम बेनेगल के निर्देशन में बनी है। यह फिल्म चर्चा में अधिक नहीं रही, लेकिन इसने काफी सराहना जरूर बटोरी। 2 में इसे नेशनल अवॉर्ड मिले।

लक्ष्य (2004)

साल 1999 में भारत-पाक के बीच हुए कारगिल युद्ध की पृष्ठभूमि पर बनी इस फिल्म में रितिक रोशन, प्रीति जिंटा एवं अमिताभ बच्चन मुख्य किरदार में नजर आए थे। फिल्म का निर्देशन फरहान अख्तर ने किया था।

स्वदेस (2004)

आशुतोष गोवारिकर के निर्देशन में बने इस फिल्म में दिखाया गया है कि कैसे एक शख्स सुख सुविधाओं को छोड़कर अपने गांव में बस जाता है। वह गांव में बिजली का प्लांट भी लगा देता है ताकि सभी लोगों की जिंदगी में रोशनी आ सके। फिल्म में शाहरुख खान और गायत्री जोशी हैं। बॉक्स ऑफिस पर ये कुछ खास कमाई नहीं कर पाई थी लेकिन क्रिटिक्स ने काफी सराहा था।

मंगल पांडे (2005)

डायरेक्टर केतन मेहता की फिल्म ‘मंगल पांडे’ देश के पहले स्वतंत्रता संग्राम के वीर सिपाही मंगल पांडे के जीवन पर आधारित है। फिल्म में मंगल पांडे का रोल आमिर खान ने निभाया था। इस फिल्म में मंगल पांडे के भारतीय विद्रोह (1857) में उनकी भूमिका को दिखाया गया है। यह फिल्म 2005 में आई थी। इस फिल्म को देखकर आप देशभक्ति से ओत-प्रोत हो जाएंगे।

रंग दे बसंती (2006)

राकेश ओम प्रकाश मेहरा की फिल्म ‘रंग दे बसंती’ देखते ही आपके मन में देशप्रेम की भावना जाग जाएगी। 2006 में आई यह फिल्म आमिर खान, शरमन जोशी, कुणाल कपूर, आर माधवन जैसे स्टार्स से सजी थी। इस फिल्म को काफी पसंद किया गया था। इसमें आज के दौर के कुछ ऐसे युवाओं की कहानी है जो देशप्रेम की खातिर अपनी जान दे देते हैं। यह फिल्म अपने दौर की एक बेहतरीन फिल्म मानी जाती है।

उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक (2016)

साल 2019 में गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर यह फिल्म आई थी। ‘उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक’ उरी में भारतीय सुरक्षाबलों पर हुए आतंकवादी हमले के बाद भारतयी सेना द्वारा पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में इंडियन आर्मी के द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक पर बनी थी। साल 2016 में जम्मू और कश्मीर के उरी सेक्टर में स्थित भारतीय सेना के स्थानीय मुख्यालय पर आतंकवादियों ने हमला किया था। इस हमले में सेना के करीब 18 जवान शहीद हुए थे। इसके 11 दिन बाद भारतीय सेना ने पाकिस्तान में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक की थी और आतंकवादियों के कई ठिकानों को तहस नहस कर दिया था। इस फिल्म में विकी कौशल ने लीड रोल निभाया था और उनकी बेहतरीन परफॉर्मेंस के आधार पर उन्हें इस साल का नेशनल अवॉर्ड दिया गया है। विक्की कौशल के अलावा यामी गौतम, परेश रावल सहित कई बड़े कलाकरों ने इस फिल्म में अहम भूमिका निभाई। इस फिल्म का निर्देशन आदित्य धर ने किया था।

परमाणु: द स्टोरी ऑफ पोखरण (2018)

जॉन अब्राहम ने साल 2018 में फिल्म ‘परमाणु: द स्टोरी ऑफ पोखरण’ के द्वारा भारतीय इतिहास की गौरवान्वित क्षण को पर्दे पर फिल्माया था। साल 1998 में भारत ने अंतरराष्ट्रीय दबाव को दरकिनार करते हुए परमाणु शक्ति हासिल की थी। ये फिल्म इसी पर आधारित पर आधारित थी। फिल्म में जॉन अब्राहम ने एक आईएएस का किरदार निभाया था।

सत्यमेव जयते (2018)

जॉन अब्राहम और मनोज बाजपेयी इस फिल्म में मुख्य भूमिका में नजर आए थे। इस फिल्म में जॉन ने ऐसे व्यक्ति का किरदार अदा किया है जो समाज के दुश्मन बन चुके एक-एक भ्रष्ट पुलिसवालों का खात्मा करता है। फिल्म का निर्देशन मिलाप जावेरी ने किया।

पढ़े: कहां हुई थी गणतंत्र दिवस (Republic Day) की पहली परेड, जानिए रोचक बातें…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here