‘टू प्लस टू वार्ता: भारत–अमेरिका के बीच सैन्य सहयोग बढ़ाने चर्चा, चीन की सैन्य आक्रामकता भी है मुख्य मुद्दा

इस बैठक में भारतीय पक्ष का नेतृत्व विदेशमंत्री एस जयशंकर और रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) करेंगे। दोनों देशों के बीच ये बैठक ऐसे समय हो रही है‚ जब भारत का चीन के साथ सीमा पर गतिरोध जारी है।

Rajnath Singh

Rajnath Singh

भारतीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) और अमेरिकी रक्षामंत्री मार्क एस्पर ने 2+2 वार्ता के पहले दिन कई मुद्दों पर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने दोनों देशों के बीच सैन्य सहयोग को और बढ़ाने के तरीकों के अलावा तेजी से बढ़ते रक्षा और सामरिक संबंधों से जुड़े कई पहलुओं पर भी चर्चा की।

विजयादशमी के मौके पर रक्षामंत्री (Rajnath Singh) ने किया शस्त्र पूजन, चीन से सीमा विवाद पर दिया ये बयान

अमेरिकी विदेशमंत्री माइक पोम्पिओ और रक्षामंत्री एस्पर तीसरी ‘टू प्लस टू’ मंत्री स्तरीय बैठक के लिए भारत पहुंचे हैं। ये बैठक आज होगी जिसमें हिंद–प्रशांत क्षेत्र में सहयोग के साथ ही समग्र रक्षा व सुरक्षा संबंधों को बढ़ाने पर जोर दिए जाने की उम्मीद है। इस बैठक में भारतीय पक्ष का नेतृत्व विदेशमंत्री एस जयशंकर और रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) करेंगे। दोनों देशों के बीच ये बैठक ऐसे समय हो रही है‚ जब भारत का चीन के साथ सीमा पर गतिरोध जारी है और इस मुद्दे पर भी चर्चा होने की उम्मीद है। ट्रंप प्रशासन के दो प्रमुख अधिकारी प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल से भी मुलाकात करेंगे।

राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) के साथ बातचीत से पहले अमेरिकी रक्षामंत्री को रायसीना हिल में साउथ ब्लॉक के बाहर तीनों सेनाओं की ओर से ‘गार्ड ऑफ ऑनर’ दिया गया। अमेरिका पिछले कुछ महीनों में कई मुद्दों को लेकर चीन की काफी आलोचना करता रहा है। इन मुद्दों में भारत के साथ सीमा विवाद‚ दक्षिण चीन सागर में उसकी बढ़ती सैन्य आक्रामकता‚ और हांगकांग में सरकार–विरोधी प्रदर्शनों से निपटने के तरीके शामिल हैं। पोम्पिओ की यात्रा से पहले अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कहा‚ अमेरिका भारत के एक प्रमुख क्षेत्रीय और वैश्विक शक्ति के रूप में उभरने का स्वागत करता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App