Pulwama : सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में लश्कर के 4 आतंकी ढेर

दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के लस्सीपोरा में 1 अप्रैल की सुबह हुई मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के चार आतंकियों को मार गिराया है। इनमें लश्कर कमांडर जफर अहमद पॉल भी शामिल है। वह कई आतंकी वारदातों में शामिल था। खुफिया एजेंसी की ओर से लस्सीपोरा इलाके में आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी। मारे गए आतंकवादियों के पास से दो एके राइफल्स, 1 एसएलआर और 1 पिस्टल बरामद किया गया है।

Pulwama

दक्षिण कश्मीर के पुलवामा (Pulwama) जिले के लस्सीपोरा में 1 अप्रैल की सुबह हुई मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के चार आतंकियों को मार गिराया। मारे गए आतंकियों में लश्कर कमांडर जफर अहमद पॉल भी शामिल है। मारे गए आतंकवादियों के पास से दो एके 47 राइफल्स, 1 एसएलआर और 1 पिस्टल बरामद किया गया है।

दरअसल, खुफिया एजेंसियों ने लस्सीपोरा इलाके में आतंकियों के छिपे होने की सूचना दी थी, जिसके बाद केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) की 44 आरआर बटालियन, सेना और एसओजी ने आतंकवादियों के खिलाफ संयुक्त अभियान सुरक्षा बलों ने यह अभियान शुरू किया। इलाके को पूरी तरह घेरने के बाद जैसे ही सुरक्षा बलों ने आतंकियों को सरेंडर करने को कहा, आतंकियों ने सुरक्षा बलों पर फायरिंग करनी शुरू कर दी। सुरक्षाबलों की जवाबी कार्रवाई में 4 आतंकी मारे गए।

अभी दो दिन पहले ही आतंकियों ने पुलवामा (Pulwama) के त्राल इलाके में एक आम नागरिक को गोली मार दी थी। इस घटना के बाद से ही आस-पास के इलाकों के लोग दहशत में थे। वहीं, सुरक्षाबल भी चौकन्ने थे।

गौरतलब है 14 फरवरी को आतंकियों ने पुलवामा (Pulwama) में ही सीआरपीएफ के काफिले पर एक आत्मघाती हमला किया था। इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। सीआरपीएफ का यह काफिला जम्मू से श्रीनगर आ रहा था, तभी इस पर हमला कर दिया गया। हमले के तुरंत बाद ही आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इसकी जिम्मेदारी ली थी।

यह भी पढें: क्यों और कैसे हो गया जम्मू-कश्मीर के बनिहाल में कार विस्फोट?

यह भी पढ़ें