पुलवामा हमला: 2 साल बाद भी शहीद अश्विनी काछी के परिवार को नहीं मिला सरकारी घोषणाओं का लाभ, नौकरी और आवास की उम्मीद में परिवार

14 फरवरी 2019 को हुए इस आतंकी हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे। इस हमले में शहीद जवानों में से एक थे अश्विनी काछी।

Pulwama Attack

शहीद अश्विनी काछी

Pulwama Attack: 14 फरवरी 2019 को हुए इस आतंकी हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे। इस हमले में शहीद जवानों में से एक थे अश्विनी काछी। वह मूल रूप से जबलपुर के सिहोरा तहसील में स्थित खुड़ावल के रहने वाले थे।

जबलपुर: आज पूरा देश पुलवामा (Pulwama Attack) में हुए आतंकी हमले में शहीद जवानों की दूसरी बरसी मना रहा है। लेकिन कुछ शहीदों के परिजनों को आज भी सरकारी घोषणाओं का लाभ नहीं मिल सका है।

बता दें कि 14 फरवरी 2019 को हुए इस आतंकी हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे। इस हमले में शहीद जवानों में से एक थे अश्विनी काछी। वह मूल रूप से जबलपुर के सिहोरा तहसील में स्थित खुड़ावल के रहने वाले थे। उनकी शहादत के बाद सरकार ने उनके परिवार के लिए कई घोषणाएं की
थीं, लेकिन आज तक उनके परिवार को उसका लाभ नहीं मिल सका है।

पुलवामा हमले की दूसरी बरसी आज, आत्मघाती आतंकी हमले में गई थी 40 जवानों की जान

मध्य प्रदेश सरकार ने शहीद के परिवार के एक सदस्य को नौकरी और आवास की घोषणा की थी और खुड़ावल में शहीद अश्विनी काछी के नाम पर स्टेडियम बनाने और प्रतिमा लगाने की बात कही थी। लेकिन आज तक इन घोषणाओं का परिवार को कोई लाभ नहीं मिला।

शहीद जवान के भाई का कहना है कि उनके परिवार के किसी सदस्य को ना ही नौकरी मिली है और ना आवास। गांव में उनके परिवार ने ही शहीद अश्विनी की प्रतिमा का निर्माण करवाया, सरकार की तरफ से कुछ नहीं किया गया।

ऐसे में सरकार से जनता ये सवाल जरूर पूछ रही है कि आखिर देश के लिए बलिदान देने वाले जवान के परिवार को सरकारी घोषणाओं का लाभ क्यों नहीं मिला।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App