Corona Vaccination: पीएम मोदी 16 जनवरी से करेंगे कोरोना वैक्सीनेशन अभियान की शुरुआत, पहले चरण में इन्हें लगेंगे टीके

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) 16 जनवरी से देश भर में होने वाले कोरोना वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) अभियान की शुरुआत करेंगे। यह कोरोना के खिलाफ दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान है।

Corona Vaccine

सांकेतिक तस्वीर।

कोरोना वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि यह टीका 28 दिनों के अंतर पर लगेगा और दूसरा टीका लगने के 14 दिनों के बाद उसका असर शुरू होगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) 16 जनवरी से देश भर में होने वाले कोरोना वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) अभियान की शुरुआत करेंगे। यह कोरोना के खिलाफ दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान है। इस मौके पर पीएम मोदी को-विन (CO-WIN) ऐप को भी लॉन्च करेंगे।

जानकारी के मुताबिक, पीएम मोदी कोरोना टीकाकरण अभियान के कार्यक्रम में वर्चुअली शामिल होंगे और कोरोना का टीका देश को समर्पित करेंगे। इससे पहले देशभर में कोरोना वैक्सीन पहुंचाने का काम युद्ध स्तर पर जारी है। सीरम इंस्टीट्यूट का वैक्सीन कोविशील्ड (Covishield) और भारत बायोटेक का वैक्सीन कोवैक्सीन (Covaxin) अब तक देश के कई शहरों में पहुंचाए जा चुके हैं।

Chhattisgarh: कोरोना काल में भी नहीं थमी विकास की रफ्तार, औद्योगिक क्षेत्र में प्रदेश ने छुई नई ऊंचाई

कोरोना वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि यह टीका 28 दिनों के अंतर पर लगेगा और दूसरा टीका लगने के 14 दिनों के बाद उसका असर शुरू होगा। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि टीका का असर खुराक पूरा होने के 14 दिनों बाद दिखना शुरू होगा। स्वास्थ्य सचिव ने कहा, ”हम लोगों से अनुरोध करते हैं कि वे कोविड-19 से जुड़े प्रोटोकॉल का पालन करना जारी रखें।” उन्होंने कहा कि टीके की दो खुराक के बीच 28 दिनों का अंतर होगा।

राजधानी दिल्ली में इसकी शुरुआत लोकनारायण जय प्रकाश अस्पताल से शुरु होगी। इसके अलावा देश के अलग-अलग राज्यों में भी 16 जनवरी से ही वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) का आगाज होगा। पहले चरण के पहली कड़ी में 3 करोड़ लोगों को वैक्सीन दी जाएगी। इनमें हेल्थकेयर कर्मियों यानी डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ और स्वास्थ्य से जुड़े लोगों को दिया जाएगा। इनकी संख्या 80 लाख से एक करोड़ के बीच बताई जा रही है।

बिहार: नक्सलियों की बड़ी साजिश नाकाम, जवानों ने 34 बारूदी सुरंगों को नष्‍ट किया

वहीं, पहले चरण की दूसरी कड़ी में करीब दो करोड़ फ्रंटलाइन वर्कर्स को यह टीका दिया जाएगा। जिनमें राज्यों के पुलिसकर्मियों, पैरामिलिटरी फोर्सेज, सफाई कर्मचारी आदि शामिल हैं। इसके अलावा उन लोगों की भी जानकारी जुटाई जा रही है जिनकी उम्र 50 साल से ज्यादा है या वे किसी न किसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं। 50 साल से नीचे की उम्र के उन लोगों को भी शामिल किया जाएगा, जिनमें कोरोना के सिमटम्स रहे हों।

ये भी देखें-

बता दें कि भारत में कोरोना की दो वैक्सीन के इस्तेमाल को मंजूरी मिली है, इनमें सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया, पुणे की ‘कोविशील्ड’ और भारत बायोटेक की ‘कोवैक्सीन’ शामिल हैं। इसके अलावा भी देश में 4 और वैक्सीन लाइनअप में हैं। ‘कोविशील्ड’ की पहली खेप मंगलवार को ही देश के अलग-अलग हिस्सों में पहुंच गई है। वहीं, भारत बायोटेक की ‘कोवैक्सीन’ की पहली खेप आज यानी 13 जनवरी को दिल्ली समेत देश के अलग-अलग हिस्सों में पहुंच गई है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें